गरीबों का सबसे बड़ा सहारा बनेगा ‘चिरायु’

हरियाणा सरकार ने केंद्र सरकारा की महत्वाकांक्षी योजना आयुष्मान भारत-प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना का विस्तार किया है। इसका नाम चिरायु रखा है जिसका मतलब होता है लंबी आयु। व्यक्ति को लंबी आयु तभी प्राप्त हो सकता है,

Created By : Manuj on :23-11-2022 14:39:03 संजय मग्गू खबर सुनें

गरीबों का सबसे बड़ा सहारा बनेगा ‘चिरायु’
संजय मग्गू
यह बहुत पुरानी कहावत है कि तंदुरुस्ती हजार नियामत है। स्वस्थ समाज बनाना है, तो लोगों का स्वस्थ रहना बहुत जरूरी है। हरियाणा सरकार ने केंद्र सरकारा की महत्वाकांक्षी योजना आयुष्मान भारत-प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना का विस्तार किया है। इसका नाम चिरायु रखा है जिसका मतलब होता है लंबी आयु। व्यक्ति को लंबी आयु तभी प्राप्त हो सकता है,

ये भी पढ़ें

सत्ता में बैठे लोग कैसे समझ पाएंगे विस्थापन की पीड़ा

जब वह स्वस्थ रहे। देश में दिनोंदिन बढ़ती महंगाई ने चिकित्सा सुविधाएं भी महंगी कर दी है। गंभीर बीमारी होने पर गरीब लोग अपना इलाज नहीं करा पाते हैं। ऐसी दशा में लोगों की सहायता के लिए प्रदेश की मनोहर लाल सरकार आगे आई है। अब राज्य सरकार ने 1.80 लाख रुपये तक की वार्षिक आय वाले लोगों को भी चिरायु योजना के तहत चिकित्सा सुविधा मुहैया कराने का फैसला किया है। केंद्र सरकार की आयुष्मान योजना के तहत 1.20 लाख रुपये की वार्षिक आय वाले लोगों को ही यह सुविधा मिल पाती है। चिरायु योजना में 2889036 परिवारों को शामिल किया गया है।

इन परिवारों को पांच लाख रुपये तक की चिकित्सा मुफ्त हासिल हो सकेगी। सरकार का कहना है कि चिरायु योजना से प्रदेश के करीब सवा करोड़ लोग लाभान्वित होंगे। यह प्रदेश सरकार की आम जनता के लिए सबसे बड़ी सौगात है। सच यही है कि एक आम आदमी को सबसे ज्यादा समस्या का सामना चिकित्सा और शिक्षा के मामले में करना पड़ता है। सरकारी अस्पतालों का जो हाल है, वह किसी से छिपा नहीं है। अस्पताल में दवाएं नहीं होती, चिकित्सक नहीं होते, रोगों की जांच के लिए उपकरण नहीं होते हैं। सबसे बड़ी बात तो यह है कि सरकारी अस्पतालों में तैनात डॉक्टर और अन्य कर्मी मरीजों और उनके तीमारदारों से ठीक व्यवहार नहीं करते हैं।

ये भी पढ़ें

सत्संग का जीवन में बड़ा महत्व है

अब जब चिरायु योजना के तहत प्रदेश के करीब सवा करोड़ लोग अपना इलाज जरूरत पड़ने पर कहीं भी करवा सकते हैं। प्रदेश सरकार की यह योजना गरीबों के लिए एक संबल का काम करेगी, ऐसी उम्मीद की जानी चाहिए। हरियाणा के सभी 22 जिलों में हर जिले में 32 अस्पतालों में कार्डधारक अपना इलाज करवा सकता है। उसे सरकारी अस्पतालों पर ही निर्भर रहना नहीं पड़ेगा। वे जहां चाहें और जिस जिले में चाहें अपना कार्ड दिखाकर इलाज करवा सकते हैं।

Share On