सीबीआई जांच के डर से केजरीवाल नई आबकारी नीति को वापस लेने को मजबूर : अनिल कुमार

दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार द्वारा अपनी नई आबकारी नीति को वापस लेने के ऐलान को लेकर इन दिनों चर्चा जोरों पर है।

Created By : Pradeep on :01-08-2022 17:22:49 अनिल कुमार खबर सुनें

नई दिल्ली
दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार द्वारा अपनी नई आबकारी नीति को वापस लेने के ऐलान को लेकर इन दिनों चर्चा जोरों पर है। दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अनिल कुमार ने कहा कि अपने आप को भगत सिंह की औलाद कहने वाले मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने राजधानी को नशे की आग में झोंकने के बाद जांच के डर से जनविरोधी नई आबकारी नीति को वापस लेने के लिए मजबूर इसलिए होना पड़ा है।

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि केजरीवाल युवाओं को रोजगार देने की जगह शराब की ओर अग्रसर करके शहीद भगत सिंह के नाम पर गलत राजनीति कर रहे है। अनिल कुमार ने कहा कि उपराज्यपाल द्वारा नई आबकारी नीति को लागू करने में हुए भ्रष्टाचार की जांच की सिफारिश का प्रदेश कांग्रेस स्वागत करती है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री की उपराज्यपाल के साथ मीटिंग में शराब नीति को वापस लेने की चर्चा इसलिए हुई क्योंकि केजरीवाल जेल बचाने की कोशिश कर रहे है, परंतु हजारों करोड़ के भ्रष्टाचार की जांच के बाद मनीष सिसोदिया का जेल जाना तय है।

कांग्रेस नेता ने कहा कि दिल्ली कांग्रेस नई शराब नीति का विरोध भ्रष्टाचार को उजागर करने के लिए जन जागरण पोल-खोल अभियान 70 विधानसभाओं और 272 वार्डों में चलाया गया। उन्होंने कहा कि शराब बनाने वाले, शराब सप्लाई करने वाले और शराब को ठेकों के द्वारा लोगों तक पहुंचाने वाले दीप मल्होत्रा को दिल्ली में शराब का कारोबार सौंपकर दिल्ली सरकार ने हजारों करोड़ का भ्रष्टाचार किया गया। उन्होंने कहा कि जिस पार्टी के लगभग 80 प्रतिशत मंत्री जेल जा चुके हो, आधे से अधिक विधायकों पर भ्रष्टाचार, रेप और आपराधिक मुकद्दमें दर्ज हो चुके हैं इस हिसाब से वो कट्टर बेईमान पार्टी है।

Share On