उत्तराखंड के नए सीएम की घोषणा होली के बाद होगी, जान लें दो संभावित नाम

सीएम पुष्कर सिंह धामी स्वयं खटीमा सीट से चुनाव में पराजित हो गए। इस स्थिति में भाजपा में उत्तराखंड के मुख्यमंत्री को लेकर मंथन का दौर जारी रहा है। मीडिया रिपोट्स के अनुसार भाजपा नेतृत्व होली के बाद उत्तराखंड के अगले मुख्यमंत्री को लेकर ऐलान करेगा। 19 मार्च को विधायक दल की बैठक होगी। जहां नए मुख्यमंत्री के नाम पर मुहर सकती है। शपथ ग्रहण 20 मार्च को होगा।

Created By : Shiv Kumar on :13-03-2022 17:59:56 प्रतीकात्मक तस्वीर खबर सुनें

एजेंसी, देहरादून।
उत्तराखंड के अगले मुख्यमंत्री को लेकर भाजपा में मंथन का दौर जारी है। सीएम पुष्कर सिंह धामी स्वयं खटीमा सीट से चुनाव में पराजित हो गए। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार भाजपा नेतृत्व होली के बाद उत्तराखंड के नए मुख्यमंत्री को लेकर ऐलान करेगा। मीडिया रिपोट्स के अनुसार विधायक दल की बैठक 19 मार्च को बुलाई जाएगी। इस मीटिंग में उत्तराखंड के नए मुख्यमंत्री के नाम पर आधिकारिक मुहर लग जाएगी। इसके बाद शपथ ग्रहण समारोह 20 मार्च को होगा।

ये भी पढ़ें

प्राकृतिक सौंदर्य देखने के लिए घूमने जाएं चैल

आपको बता दें कि उत्तराखंड में भाजपा ने 47 सीटों पर विजय हासिल कर एक बार फिर पूर्ण बहुमत प्राप्त किया है। वैसे वर्तमान सीएम पुष्कर सिंह धामी स्वयं खटीमा विधानसभा सीट से चुनाव में पराजित हो गए हैं। ऐसे में भाजपा में उत्तराखंड में नए मुख्यमंत्री के नाम को लेकर मंथन जारी है।

ये भी पढ़ें

शिविर के समापन सर्टिफिकेट वितरित किए


इसको लेकर उत्तराखंड भाजपा के दिग्गज नेता दिल्ली पहुंचने भी शुरू हो गए हैं। सबसे पहले शनिवार को कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज दिल्ली रवाना हुए। उसी शाम को कैबिनेट मंत्री सुबोध उनियाल भी दिल्ली रवाना हो गए। इन दोनों नेताओं की दिल्ली में पार्टी के दिग्गज नेताओं से भेंट हुई है। वहीं केंद्रीय रक्षा एवं पर्यटन राज्य मंत्री अजय भट्ट ने राष्ट्रीय महासचिव-संगठन बीएल संतोष से भेंट की।

ये भी पढ़ें

सुकन्या समृद्धि योजना के तहत किसी भी डाकघर में खुलवाएं खाता, आयकर में मिलेगी छूट: डीसी


सूत्रों के अनुसार भाजपा शीर्ष नेतृत्व कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज और धन सिंह रावत के नाम अगले मुख्यमंत्री के तौर पर सियासी गलियारों में तैर रहे हैं। पर हर किसी की नजरें पीएम नरेंद्र मोदी, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह व जेपी नड्डा की पसंद पर टिकी हुई हैं, क्योंकि अंतिम निर्णय उन्हें ही करना है।

Share On