अच्छी परवरिश का झांसा दे गरीब के बच्चे को दूसरे को लाखों में बेच देती थी हिना माथुर, पूरे नेटवर्क को खंगालने में जुटी पुलिस

हरियाणा के बल्लभगढ़ में मुख्यमंत्री उड़नदस्ते की टीम ने बच्चे बेचने के आरोप में उड़ान एनजीओ की चेयरमैन हिना माथुर सहित दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है। पता चला है कि ये आरोपी अच्छी परवरिश का बहाना बनाकर गरीब परिवार से नवजात को ले लेते थे और दूसरे को लाखों में बेच देते थे। अब पुलिस बच्चा तस्करी के इस पूरे नेटर्वक को खंगालने में जुट गई है।

Created By : Shiv Kumar on :04-08-2022 17:14:34 पुलिस हिरासत में दोनों आरोपी खबर सुनें

देश रोजाना, बल्लभगढ़

उड़ान एनजीओ की चेयरमैन हिना माथुर मदद का बहाना बनाकर गरीब लोगों से संपर्क साधती थी। हिना माथुर ने एमबीए की पढ़ाई की है। 26 अगस्त 2016 को उसने उड़ान वेलफेयर ट्रस्ट नामक एनजीओ शुरू किया था। पति नितिन माथुर इसमें ज्वाइंट सेक्रेटरी है। इस एनजीओ में प्रधान के पद पर ममता सक्सेना कार्य करती है। इसमें पवन शर्मा, हिमांशु व राजीव सलाहकार के तौर पर कार्य करते हैं। इस एनजीओ में कुल 11 सदस्य कार्य करते हैं। यह एनजीओ आर्थिक तौर पर कमजोर महिलाओं व बच्चों के लिए वर्क करता है। एनजीओ के लोग गरीब परिवारों के संपर्क में रहते थे व साथ ही उन परिवारों से भी संपर्क करते थे, जिस परिवार में हाल में ही किसी नवजात ने जन्म लिया हो। ये लोग उस परिवार को नवजात की बढ़िया परवरिश का झांसा देकर ले लेते थे व लाखों रुपये में बेच देते थे। एनजीओ उड़ान की एक ब्रांच जवाहर कॉलोनी में है। इसकी दूसरी ब्रांच कोसी कलां यूपी के मथुरा में है। दोनों ब्रांच से संबंधित तमाम लोगों से अब पुलिस पूछताछ करेगी। पता चला है कि हिना माथुर कई अन्य एनजीओ से भी जुड़ी हुई थी। जोकि अर्थिक रूप से कमजोर बच्चों व महिलाओं की हेल्प करते थे।

ये भी पढ़ें

पूर्व विधायक ने जमीन हड़पने का लगाया आरोप, रुपये मांगने पहुंचे पीड़ित पर आरोपियों ने छोड़ा कुत्ता

हिना को सरकार से मिल चुका है सम्मान
सरकार से हिना माथुर को समाज की सेवा करने पर कई बार सम्मान भी प्राप्त हो चुका है। इसके अलावा हिना को उपायुक्त भी सम्मानित कर चुके हैं। ओएमजी बुक आॅफ रिकॉर्ड में हिना का नाम समाज के लिए अच्छा काम करने पर दर्ज है। हिना को अभिनेता मुकेश खन्ना संजीवनी अवॉर्ड से सम्मानित कर चुके हैं। इसके अलावा कुमाऊ सांस्कृतिक मंडल सहित अन्य अवार्ड प्राप्त हो चुके हैं। कोरोना काल में गरीब लोगों को कपड़े देना, खाना देना, बच्चों की पढ़ाई करवाना, गरीब परिवार की बेटी का विवाह करवाना, रक्त दान करना आदि कार्यों में सदैव आगे रहती थी।

ये भी पढ़ें

फरीदाबाद: वक्त पर पीएफ नहीं किया जमा, ईपीएफओ ने 500 कंपनियों को नोटिस भेज मांगा जवाब


मीटिंग के लिए प्रयोग किया अस्पताल
सेक्टर-8 सर्वोदय अस्पताल के चिकित्सा प्रशासक डॉ. सौरभ गहलौत ने कहा कि सीएम उड़नदस्ते ने जो लोग गिरफ्त में लिए हैं, उन्होंने अस्पताल की कैंटीन को केवल मीटिंग के लिए चुना गया था। इस मामले से अस्पताल का कोई लेना-देना नहीं है।मीडिया रिपोर्ट के अनुसार आरोपी हिना के व्हाट्सएप के मुताबिक बीते 29 जुलाई को भी एक बच्चे का सौदा किया गया था। इसको लेकर पुलिस जानकारी जुटाने में लग गई है। पुलिस की माने तो इससे पहले भी आरोपी बच्चों को बिक्री कर चुकी है। गिरफ्त में आए दोनों आरोपियों के मोबाइलों की जांच-पड़ताल की जा रही है।

ये भी पढ़ें

रज्जाक ने प्रिंस बन हिंदू लड़की को अपने प्रेमजाल में फंसाया, कई बार किया दुष्कर्म

ज्यादातर लड़कियों को लेते थे आरोपी
जानकारी के अनुसार आरोपी पवन अपनी पत्नी के साथ गरीब परिवारों से मिलता जुलता था। इसमें भी वो दो से तीन बच्चों वाले दंपति से संपर्क करते थे। आरोपी पवन कहता था कि हिना माथुर को संतान नहीं है हैं। उसे संतान की जरूरत है। इसकी आड़ में आरोपी बच्चे लेकर किसी दूसरे को बेच देते थे। आरोपी ज्यादातर लड़कियों को ही लेते थे। इस एनजीओ की कुंडली खंगालने में पुलिस जुट गई है।

Share On