ऋद्धिमान साहा को मैसेज कर दी थी धमकी, BCCI ने पत्रकार बोरिया मजूमदार पर लगाया दो वर्ष का बैन

बीसीसीआई ने विकेटकीपर ऋद्धिमान साहा को धमकी देने के मामला में बड़ी कार्रवाई की है। आरोपी पत्रकार बोरिया मजूमदार पर बीसीसीआई ने ने दो वर्ष का बैन लगा दिया है।

Created By : Shiv Kumar on :04-05-2022 17:09:15 ऋद्धिमान साहा को धमकी मामला खबर सुनें

एजेंसी, दिल्ली।
टीम इंडिया के विकेटकीपर ऋद्धिमान साहा को धमकी देने के मामले में भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने बड़ी कार्र की है। बीसीसीआई ने बुधवार को एक आदेश जारी कर खेल पत्रकार बोरिया मजूमदार पर दो वर्ष का बैन लगा दिया है। इस बारे में पत्र लिखकर बीसीसीआई ने सभी राज्य एसोसिएशन व अन्य क्लब को जानकारी दे दी है। बीसीसीआई ने पत्रकार बोरिया मजूमदार को भारत में क्रिकेट के तमाम इवेंट्स से बैन किया है। इसके बाद इंडिया में होने वाले किसी भी अंतरराष्ट्रीय या घरेलू मुकाबले को बोरिया मजूमदार कवर नहीं कर सकेंगे। इसके अलावा वो किसी भी प्रेस वार्ता में भाग नहीं ले सकेंगे। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के आदेश के अनुसार, अगले दो वर्ष तक वो किसी भी प्लेयर से संपर्क नहीं साध सकेंगे। ना ही वो बीसीसीआई से संबंधित किसी भी क्रिकेट संघ या क्लब से उनका कोई नाता रहेगा।

ये भी पढ़ें

रूस ने यूक्रेन के 6 रेलवे स्टेशनों को किया बर्बाद, इन रेलवे स्टेशनों पर पश्चिमी देशों से आते थे हथियार

ऋद्धिमान साहा के आरोप
जानकारी के अनुसार विकेटकीपर ऋद्धिमान साहा ने बीते दिनों ट्वीट कर कई स्क्रीनशॉट जारी किए थे। उनमें साहा ने आरोप लगाया था कि एक पत्रकार ने उनके साथ बदसलूकी की गई। साथ ही ऋद्धिमान साहा ने पत्रकार द्वारा खुद को धमकाए जाने का आरोप लगाया गया था। साहा के इन आरोप व स्क्रीनशॉट पर बीसीसीआई ने सख्त कार्रवाई की है।

ये भी पढ़ें

गौ की रक्षा के लिए स्वयं इस धरती पर आते हैं परमात्मा : भाग्यश्री भारती

जांच कमेटी की गई थी गठित
मामले की जांच के लिए बीसीसीआई ने जिस कमेटी का गठन किया था, उसमें अरुण सिंह धूमल, राजीव शुक्ला, प्रभतेज सिंह भाटिया शामिल थे। इन तीनों लोगों ने दोनों पक्षों को सुना व उसके बाद ही अपना निर्णय सुनाया। बीसीसीआई ने एक कमेटी का गठन किया, जिसके बाद ऋद्धिमान साहा ने कमेटी के समक्ष पेश होकर पत्रकार के नाम का खुलासा किया व पूरा प्रकरण समझाया। इस कमेटी के समक्ष बोरिया मजूमदार ने भी अपनी सफाई पेश की थी व तमाम आरोपों को खारिज किया था। वैसे जांच के दौराना बोरिया मजूमदार के पक्ष में नहीं गईं और अब कमेटी के निर्णय के आधार पर बोर्ड ने बोरिया मजूमदार पर बैन लगा दिया है।

ये भी पढ़ें

कारोबारी हत्याकांड: मेट्रो कार्ड के इस्तेमाल से पकड़ में आए नाबालिग सहित दो आरोपी, पुलिस ने ऐसे सुलझाया पूरा केस


स्क्रीनशॉट में क्या था?
साहा ने 19 फरवरी 2022 को ट्विटर पर इस मामले में लिखा और स्क्रीनशॉट जारी किए थे। उन्होंने लिखा था कि भारतीय क्रिकेट में उनके तमाम योगदानों के बाद..एक तथाकथित सम्मानित पत्रकार से उन्हें यही सामना करना पड़ता है! पत्रकारिता कहां चली गई है। जारी स्क्रीनशॉट में लिखा था, मेरे साथ एक साक्षात्कार करेंगे। आपने 11 जर्नलिस्ट को चुनने का प्रयास किया। जोकि मेरे हिसाब से सही नहीं है। उन्हें चुने जो ज्यादा मदद कर सके। आपने कॉल नहीं किया। मैं अब आपका कभी साक्षात्कार नहीं करूंगा व मैं इस बात को सदैव याद रखूंगा।

Share On