बैंकिंग इतिहास का सबसे बड़ा घोटाला! ABG शिपयार्ड ने 28 बैंकों को लगाया 22,842 करोड़ का चूना

एबीजी समूह की प्रमुख इकाई एबीजी शिपयार्ड पर कथित तौर पर 22,842 करोड़ रुपये की वित्तीय धोखाधड़ी को लेकर केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने मामला दर्ज किया है। वायर एजेंसियों के हवाले से अधिकारी ने बताया कि सीबीआई द्वारा दर्ज यह अब तक का सबसे बड़ा बैंक धोखाधड़ी का मामला है।

Created By : Pradeep on :12-02-2022 21:13:11 प्रतीकात्मक तस्वीर खबर सुनें

एबीजी समूह की प्रमुख इकाई एबीजी शिपयार्ड पर कथित तौर पर 22,842 करोड़ रुपये की वित्तीय धोखाधड़ी को लेकर केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने मामला दर्ज किया है। वायर एजेंसियों के हवाले से अधिकारी ने बताया कि सीबीआई द्वारा दर्ज यह अब तक का सबसे बड़ा बैंक धोखाधड़ी का मामला है। मामला 2012-17 की अवधि के दौरान प्राप्त और दुरुपयोग किए गए धन से संबंधित है। मामले में एबीजी शिपयार्ड लिमिटेड और उसके तत्कालीन अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक ऋषि कमलेश अग्रवाल सहित अन्य अज्ञात पब्लिक सर्वेंट और प्राइवेट लोगो के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है।

ये भी पढ़ें

कृष्ण पाल गुर्जर ने नव निर्मित मेयर कैम्प ऑफिस का किया उद्घाटन, बोले- सरकार की कथनी-करनी में अंतर नहीं

फॉरेंसिक जांच से पता चला है कि 2012 से 17 के बीच, मामले के आरोपियों ने एक साथ मिलीभगत की और फंड के डायवर्जन, हेराफेरी और आपराधिक विश्वासघात में लगे रहे। रिपोर्ट के अनुसार, कथित घोटाले के शिकार 28 बैंक और वित्तीय संस्थान हैं। सीबीआई की प्राथमिकी में कहा गया है कि इन निकायों द्वारा दिए गए फंड का इस्तेमाल अन्य उद्देश्यों के लिए किया गया था।

ये भी पढ़ें

गर्भपात करती नर्स को रंगे हाथ पकड़ा, स्वास्थ्य विभाग की टीम ने बिछाया था ये जाल


भारतीय स्टेट बैंक ने घोटाले को लेकर शिकायत दर्ज कराई है। उसका कहना है कि कंपनी पर उसका 2,925 करोड़ रुपये बकाया है। अन्य बैंकों में आईसीआईसीआई बैंक (7,089 करोड़ रुपये), आईडीबीआई बैंक (3,634 करोड़ रुपये), बैंक ऑफ बड़ौदा (1,614 करोड़ रुपये), पीएनबी (1,244 करोड़ रुपये और आईओबी (1,228 करोड़ रुपये) शामिल हैं।

ये भी पढ़ें

UP-उत्तराखंड में थमा चुनाव प्रचार का शोर, अंतिम दिन स्टार प्रचारकों ने झोंकी ताकत, अब नेता जी जाएंगे डोर टू डोर


अप्रैल 2012 से जुलाई 2017 की अवधि के लिए मैसर्स अर्न्स्ट एंड यंग एलपी द्वारा प्रस्तुत फोरेंसिक ऑडिट रिपोर्ट दिनांक 18.01.2019 से पता चला है कि आरोपियों ने एक साथ मिलीभगत की है और धन के दुरुपयोग, दुर्विनियोजन और आपराधिक विश्वासघात सहित अवैध गतिविधियों को अंजाम दिया है।

Share On