Chaitra Navratri 2022: नवरात्र 2 अप्रैल से, मां दुर्गा की होगी पूजा-आराधना

शनिवार से नवरात्र शुरू हो रहे हैं, जिसमें साधक सिद्धि प्राप्ति के लिए नौ दिन तक साधना करेंगे। इस बार नवरात्र की घट स्थापना 2 अप्रैल को शनि रेवती योग में होगी।

Created By : Pradeep on :01-04-2022 11:59:43 प्रतीकात्मक तस्वीर खबर सुनें

देश रोजाना, पलवल
शनिवार से नवरात्र शुरू हो रहे हैं, जिसमें साधक सिद्धि प्राप्ति के लिए नौ दिन तक साधना करेंगे। इस बार नवरात्र की घट स्थापना 2 अप्रैल को शनि रेवती योग में होगी। जबकि तीन अप्रैल को सर्वार्थ सिद्धि योग, 4 अप्रैल को रवियोग, 5 अप्रैल को सर्वार्थ सिद्धि योग, 6 अप्रैल को सर्वार्थ सिद्धि व रवियोग, 7 अप्रैल को रवि योग, 8 अप्रैल को योग व 10 अप्रैल को रवि पुष्य नक्षत्र व सर्वार्थ सिद्धि योग बन रहा है। जी हां, इस बार नवरात्र पूरे नौ दिन के रहेंगे।

ये भी पढ़ें

कांग्रेस ने रखा दस लाख सदस्य बनाने का लक्ष्य, विधानसभा चुनाव के कारण रोका गया सदस्यता अभियान फिर हुआ शुरू

पं. रूपचंद तिवारी ने बताया कि चैत्र शुक्ल प्रतिपदा पर 2 दिन रहेगा। अप्रैल को शनिवार के दिन रेवती नक्षत्र में चैत्र नवरात्र का प्रारंभ होगा। मां दुर्गा को सुख-समृद्धि और ऐश्वर्य महासंयोग की देवी कहा गया है। इसलिए नवरात्रि के नौ दिनों में भगवती की अलग-अलग स्वरूपों की पूजा की जाती है। मां के नौ स्वरूपों की पूजा सभी दुखों को दूर करती है। हर मनोरथ को पूर्ण करती है और जीवन में समस्त बाधाओं को मिटा देती है।

ये भी पढ़ें

महंगाई की एक और मार, कमर्शियल रसोई गैस एलपीजी की कीमत में 250 रुपये प्रति सिलेंडर की बढ़ोतरी

नवरात्र शनिवार को प्रारंभ होने हैं और देवी का अश्व पर सवार होकर आना बेहद अच्छा माना जाता है। इसका असर प्रकृति देश दुनिया आदि पर देखने को मिलता है। शनिवार 2 अप्रैल के दिन रेवती नक्षत्र होने से शनि रेवती योग का संयोग बन रहा है। उन्होंने बताया कि भारतीय ज्योतिष शास्त्र में ग्रह नक्षत्रों का विशेष महत्व है। रेवती पंचक का नक्षत्र होने के कारण ऐसे में देवी आराधना की शुरुआत करने से पांच गुना अधिक शुभ फल प्राप्त होगा। नवरात्रि के नौ दिनों में सर्वार्थ सिद्धि, रवियोग तथा पुष्य नक्षत्र का दिव्य संयोग भी बन रहा है।

Share On