मनी लॉन्‍ड्रिंग मामला: कोर्ट ने महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख को 14 दिन की न्‍यायिक हिरासत में भेजा

मनी लॉन्ड्रिंग मामले में महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख की कठिनाइयां बढ़ती ही जा रही है। अदालत ने अनिल देशमुख को 14 दिन की न्‍यायिक हिरासत में भेज दिया है। आज ही उनकी हिरासत समाप्‍त हो रही थी।

Created By : Shiv Kumar on :15-11-2021 17:38:48 खबर सुनें

एजेंसी, मुंबई।
महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख की परेशानियां मनी लॉन्ड्रिंग मामले में लगातार बढ़ती ही जा रहीं हैं। अदालत ने अनिल देशमुख को 14 दिन की न्‍यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। आपको बता दें कि अनिल देशमुख की कस्‍टडी सोमवार को समाप्‍त हो रही थी। पिछली बार प्रवर्तन निदेशालय ने सचिन वाजे के साथ आमने सामने पूछताछ के लिए हिरासत बढ़ाने की मांग की थी। पर लेकिन अब सचिन वाजे भी मुंबई क्राइम ब्रांच की हिरासत में है। इस कारण आमने-सामने पूछताछ नहीं हो सकी है।


वहीं अनिल देशमुख ने जेल में घर से खाना मंगवाने के लिए इजाजत मांगी थी। इसपर कोर्ट ने कहना था कि आप पहले जेल का भोजन करके देंख लें, यदि अच्छा नहीं रहा तो इस पर विचार करेंगे। वहीं अनिल देशमुख ने अपने स्‍वास्‍थ्‍य का हवाला भी दिया और बेड का इंतजाम करने की मांग उठाई थी। वैसे कोर्ट ने अनिल देशमुख की ये मांग मान ली है।
गौरतलब हो कि पिछले 2 नवंबर को देशमुख को प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने मनी लॉन्ड्रिंग के एक केस में अरेस्ट किया था। बाद में उन्हें अदालत में पेश किया गया था। वहां से अनिल देशमुख 12 नवंबर तक के लिए ईडी की कस्टडी में भेज दिया गया था। बाद में अदालत ने उनकी कस्टडी तीन दिनों के लिए (15 नवंबर तक) बढ़ा दी थी। तफ्तीश में ईडी ने कहा था कि अनिल देशमुख के परिवार द्वारा नियंत्रित 13 कंपनियां व उनके सहयोगियों द्वारा नियंत्रित 14 अन्य कंपनियां हैं। जिनका उपयोग अनिल देशमुख द्वारा 'गलत ढंग से' कमाए गए रुपये के लिए किया जाता है। जांच एजेंसी ने ये भी बताया कि महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री भी मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में 'सीधे तौर पर सम्मलित थे।

Share On