गौ सेवा से दूर हो जाते हैं सभी कष्ट, जानें ये बात

हिन्दू धर्म में गाय को पूजनीय स्थान प्राप्त है। ऐसी मान्यता है कि, बड़े से बड़ा कष्ट सिर्फ गऊ माता की सेवा करने से दूर हो जाता है। गाय में 33 कोटि देवी-देवताओं का वास होता है। मान्यता है कि, गाय की सेवा करने से जहां सभी देवी-देवता प्रसन्न होते हैं, वहीं घर में सुख-समृद्धि और अच्छे स्वास्थ्य का वरदान मिलता है।

Created By : Mukesh on :27-03-2022 13:21:06 प्रतीकात्मक खबर सुनें

हिन्दू धर्म में गाय को पूजनीय स्थान प्राप्त है। ऐसी मान्यता है कि, बड़े से बड़ा कष्ट सिर्फ गऊ माता की सेवा करने से दूर हो जाता है। गाय में 33 कोटि देवी-देवताओं का वास होता है। मान्यता है कि, गाय की सेवा करने से जहां सभी देवी-देवता प्रसन्न होते हैं, वहीं घर में सुख-समृद्धि और अच्छे स्वास्थ्य का वरदान मिलता है। इतना ही नहीं गाय की सेवा से कुण्डली के सभी दोष दूर हो जाते हैं। अगर आपके जीवन में भी कोई परेशानियां हैं तो वो गाय की सेवा करने से दूर हो सकती हैं।
ऐसी मान्यता है कि, गाय को खिलाई गई कोई भी चीज सीधे देवी-देवताओं को प्राप्त होती है। इसीलिए पहली रोटी गाय के लिए निकाली जाती है। गाय के लिए पहली रोटी निकालने से जीवन की सभी समस्याएं दूर हो जाती हैं और परिवार में सुख-समृद्धि बरकरार रहती है।
कुण्डली में बुध ग्रह कमजोर होने पर या किसी और कारण से उसके अशुभ प्रभाव झेलने पर बुधवार के दिन गाय को हरा चारा खिलाएं।
शनि से जुड़ी किसी भी प्रकार की समस्या के लिए काले रंग की गाय की सेवा करने की सलाह दी जाती है और अगर संभव हो तो किसी ब्राह्मण को काले रंग की गाय का दान करने से शनि की समस्याएं दूर हो जाती हैं।
कुण्डली में मंगल दोष होने पर व्यक्ति को तरह-तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। ऐसे में लाल रंग की गाय की सेवा करें। मंगल के दिन गाय को चारा खिलाएं और साथ ही उसे गुड़-चना जरुर खिलाएं।
बृहस्पति ग्रह आपके पक्ष में ना हो तो जातक के विवाह में देरी होती है तथा शिक्षा में व्यवधान आता है। साथ ही जातक को कई परेशानियां घेर लेती हैं। ऐसे में बृहस्पतिवार के दिन गाय का हल्दी से तिलक करें और आटे की लोई में गुड़-चने की दाल के साथ चुटकी भर हल्दी रखकर जरुर खिलाएं।
अगर आप पितृदोष से मुक्ति पाना चाहते हैं तो अमावस्या के दिन गाय को रोटी, गुड़, आटे की लोई और हरा चारा खिलाएं।
वहीं अगर आप रोजाना गाय की सेवा कर सकते हैं तो आपका जीवन और भी ज्यादा बेहतर होता है और नवग्रह आपके अनुकूल हो जाते हैं।
Disclaimer: इस स्टोरी में दी गई सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं। Desh Rojana Portal किसी भी अंधविश्वास और इन तथ्यों की किसी प्रकार से कोई पुष्टि नहीं करता है। इन तथ्यों पर अमल करने से पहले संबंधित ज्योतिषी, आचार्य तथा विशेषज्ञ से संपर्क करें।

Share On