तीन विदेशी नागरिकों को भारतीय नागरिकता प्रदान, पाकिस्तानी लड़की ने सुनाई दुख भरी दास्तान

जिलाधीश जितेंद्र यादव ने आज दो पाकिस्तानी विस्थापितों तीन विदेशी नागरिकों को भारतीय नागरिकता प्रदान की है। वहीं डीसी ने इन तीनों से कहा कि आप खुद के साथ ही देश के हित में बेहतर कार्य करना।

Created By : Shiv Kumar on :23-06-2022 22:31:14 पाकिस्तानी लड़की काजल को भारतीय नागरिकता प्रदान करते फरीदाबाद जिलाधीश जितेंद्र यादव खबर सुनें

देश रोजाना, फरीदाबाद
जिलाधीश जितेंद्र यादव ने गुरुवार को दो पाकिस्तानी विस्थापितों और एक अफगानिस्तानी नागरिक को नागरिकता प्रदान की है। उन्होंने नागरिकता प्रदान करते हुए उनके उज्जवल भविष्य की कामना की और कहा कि स्वयं के अच्छे भविष्य के साथ साथ देश के हित में बेहतर कार्य करना। जिससे देश का हित होगा और आपका भविष्य भी उज्ज्वल होगा। जिलाधीश जितेन्द्र यादव ने पाकिस्तान के 17 वर्षीय काजल, 20 वर्षीय मुनीश व अफ्गानिस्तान के 69 वर्षीय ब्यास लाल को भारतीय नागरिकता गुरुवार को प्रदान की है।

जिलाधीश जितेंद्र यादव ने उन्हें यह भारतीय नागरिकता भारतीय नागरिक क्लिप अधिनियम 1955 की धारा-5(1) (क) के तहत भारतीय नागरिकता विधिवत रूप से प्रदान कर दी है। पाकिस्तान की निवासी काजल ने बताया कि वह वर्ष 2010 में पाकिस्तान से सह-परिवार भारत आ गए थे और परिवार के साथ भारत के हरियाणा राज्य के फरीदाबाद जिला में रह रहे हैं। उन्होंने बताया कि उन्होंने भारत सरकार के गृह मंत्रालय में अपनी भारतीय नागरिकता प्राप्त करने के लिए आवेदन दिया था। उस आवेदन को गुरुवार को डीसी जितेंद्र यादव ने मूर्त रूप देकर हमें भारतीय नागरिकता प्रदान की है।

मुनीश

भारत में हमें बहुत ही बढिय़ा और अच्छा जीवन मिला:काजल
मुनीश ने आगे बताया कि फिलहाल वह अपने परिवार के साथ फरीदाबाद के सैनिक कॉलोनी में बड़े हर्ष, खुशी, प्रेम और उल्लास के साथ रह रहे हैं। इसके साथ ही काजल और मुनीश ने बताया कि भारत में हमें बहुत ही बढिय़ा और अच्छा जीवन मिला है। अब हम फरीदाबाद में बड़ी शान और शौकत से और प्रेम और भाईचारे के साथ रह रहे हैं। ब्यास लाल ने बताया कि हिंदुस्तान और अफगानिस्तान में जमीन-आसमान का अंतर है। एक तरफ हिंदुस्तान में हम खुशहाल जीवन व्यतीत कर रहे है तो दूसरी ओर हमे वहां मर-मर कर जीना पड़ता था।

Share On