फंदे से लटके मिले एक ही परिवार के पांच लोगों के शव, घटना की वजह माना जा रहा ऋण

बिहार के समस्तीपुर जिले से दिल दहला देने वाला मामला सामने आया है। यहां विद्यापतिनगर थाना इलाके में एक ही परिवार के पांच लोगों के शव फंदे से लटके पाए गए हैं। ऐसा सामने आ रहा है कि परिवार ने आर्थिक तंगी की वजह से आत्महत्या की है। पुलिस ने शवों को पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया है। पुलिस मामले की जांच में जुट गई है।

Created By : Shiv Kumar on :05-06-2022 15:08:40 प्रतीकात्मक तस्वीर खबर सुनें

एजेंसी, समस्तीपुर
बिहार के समस्तीपुर जिले में विद्यापतिनगर थाना इलाके से दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है। यहां एक ही परिवार के पांच लोगों के शव फंदे से लटके मिले हैं। एक साथ पांच लोगों की मौत से पूरे इलाके में सनसनी फैल गई है। यह दर्दनाक घटना समस्तीपुर जिले के विद्यापतिनगर थाना इलाके स्थित मऊ गांव में घटी है। घटना की सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंच गई है और मामले की जांच-पड़ताल में जुट गई है। पुलिस ने शवों को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल भिजवा दिया गया है। वैसे परिवार के पांच लोगों की आत्महत्या के पीछे की वजह आर्थिक तंगी और कर्ज को माना जा रहा है।

ये भी पढ़ें

बांग्लादेश: कंटेनर डिपो में ब्लास्ट, अब तक 35 की मौत, 300 से ज्यादा घायल

घटना में जान गंवाने वालों में वार्ड 11 के रहने वाले रविकांत झा के बेटे मनोज झा 45 साल, मनोज झा की मां सीता देवी 65 वर्ष, मनोज झा के बेटे सत्यम कुमार 10 वर्ष, शिवम कुमार सात वर्ष व मनोज की पत्नी सुंदरमणि देवी 38 साल शामिल हैं। एक साथ पांच लोगों की मौत से पुलिस विभाग में भी हड़कंप मच गया है। प्राप्त सूचना के अनुसार मऊ गांव के रहने वाले मनोज झा आटो चलाकर और खैनी बेचकर अपने परिवार का गुजर बसर करते थे। पारिवार की गुजर-बसर करने के लिए उन्होंने कई समूहों से कर्ज भी लिया था। समय-सीमा के भीतर ऋण की अदायगी करने में वो सक्षम नहीं हो पा रहे थे। जिसकी वजह से उन्हें बार-बार तकादा झेलना पड़ रहा था।

ये भी पढ़ें

गाड़ियां लगाने के नाम पर क्रिकेटर से छह लाख की धोखाधड़ी, रुपये मांगने पर की गई पिटाई

पड़ोसियों का कहना है कि रविवार की सुबह खुद सहायता समूह की कई महिलाएं मनोज के घर पहुंची थी। उन्होंने थोड़ी देरी आवाज दी व घर का द्वार भी खटखटाया इसके बाद भी गेट नहीं खुला। गांव के लोगों ने भी आवाज दी लेकिन घर का द्वार नहीं खुला। इसपर गांव के लोगों ने खिड़की के भीतर से झांककर देखा तो भीतर का नजारा देखकर दिल दहल गया। परिवार के पांच लोगों के शव घर में भीतर फंदे से लटके हुए थे। इस पर मामले की जानकारी पुलिस को दी गई।

ये भी पढ़ें

एक मौका दीजिए बदल देंगे गुजरात के स्कूलों की तस्वीर : मनीष सिसोदिया


इनसे पहले भी मनोज झा के पिता ने भी फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। पिता ने अपनी बड़ी बेटी के विवाह के लिए कर्ज लिया था। उन्होंने भी ऋण नहीं चुका पाने की स्थिति में आत्महत्या कर ली थी। अभी उनके बेटे ने भी अपनी बहन का विवाह मंदिर में किया था। परिवार में अब सिर्फ दो विवाहित बेटियां ही बची हैं।

Share On