युवक ने ग्लानि में की आत्महत्या, दबंगों ने पिला दिया था मलमूत्र

हरियाणा के पलवल जिले से मानवता को शर्मसार कर देने वाला मामला सामने आया है। यहां कुछ दिनों पहले दबंग लोगों ने एक युवक को जबरन मलमूत्र पिला दिया था, इस बात से दुखी होकर युवक ने बीती रात आत्महत्या कर ली। मां की शिकायत पर पुलिस ने केस दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।

Created By : Shiv Kumar on :24-06-2022 22:51:48 प्रतीकात्मक तस्वीर खबर सुनें

देश रोजाना, पलवल
मानसिक परेशानी व अनिकृत (मलमूत्र पिलाने) से परेशान होकर 22 वर्षीय युवक ने फांसी का फंदा लगाकर अपनी जीवनलीला को समाप्त कर लिया।चांदहट थाना पुलिस ने मृतक युवक की मां की शिकायत पर आठ नामजद आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।पुलिस जांच अधिकारी संजय के अनुसार खेड़ला फरीजनपुर गांव निवासी किरन ने शिकायत दर्ज कराई है कि उसका निवास गांव के अंदर है तथा बैठक व प्लाट डकौरा गांव के रोड़ पर स्थित है। प्लाट के पास पीड़िता के जेठ लच्छीराम व देवर मोहरपाल का भी प्लाट है। लगभग एक वर्ष पहले पीड़िता के पति राजपाल के साथ जेठ लच्छीराम व देवर मोहरपाल का झगड़ा हो गया था। जिसके बाद देवर मोहरपाल ने शोर मचाया कि मेरी पत्नी मर गई है। जिसकी बाबत लच्छीराम ने एक झूठा मुकदमा थाना चांदहट में दर्ज कराया था।

ये भी पढ़ें

महाराष्ट्र के सियासी संकट में खुलकर सामने नहीं आ रही भाजपा, जानें इंतजार की वजह


मुकदमे में पीड़िता के पति राजपाल, पुत्र पवन, भांजा दीपक को पुलिस ने गिरफतार कर नीमका जेल भेज दिया। जोकि अभी भी जेल बंद में है। जिसके बाद से पीड़िता अपने पुत्र गुलशन को लेकर लच्छीराम व मोहरपाल के परिजनों के डर की वजह से अपना घर छोड़कर रिश्तेदारों के वहां पर रहने लगे। पीड़ित जब अपने पुत्र गुलशन के साथ अपने घर को देखने खेड़ला गांव आते तो आरोपी जान से मारने व बदला लेने की धमकी देते। पीड़िता का कहना है कि घर छोड़ने के बाद लच्छीराम, मोहरपाल व उनके परिवार वालों ने हमारी बैठक पूरी तरह तोडफोड कर दी और जो भी सामान रखा था वह सब निकाल लिया।

ये भी पढ़ें

तीन विदेशी नागरिकों को भारतीय नागरिकता प्रदान, पाकिस्तानी लड़की ने सुनाई दुख भरी दास्तान

कुछ दिन पहले मैं व मेरा पुत्र गुलशन ग्राम खेडला फरीजनपुर अपना घर बार संभालने के लिए गए थे। लच्छीराम व मोहरपाल, रिंकी पत्नी मोहरपाल, अनीता, सुमन, सन्तोष पुत्री लच्छीराम, लच्छीराम के दामाद अनिल व मनीष गांव में मौजूद मिले और लाठीयां व डंडे लेकर हमें जान से मारने की नियत से हमारे पीछे दौड़े। मैंने बस्ती के लोगों से गुहार लगाकर अपनी जान बचाई। उन्होंने प्लाट व मकान पर कब्जा कर लिया है व हमसे कहा है कि तुम यहां से भाग जाओ तुम्हारा यहां कुछ नहीं है। जिसकी वजह से भी गुलशन काफी परेशान था। 21 जून को मेरा पुत्र गुलशन यह कहकर गांव खेडला फरीजनपुर आया था कि मैं अपने घर की देखभाल व साफ सफाई करके आता हूं। 22 जून तक भी वापिस नहीं पहुंचा जो हमने मोबाइल पर कॉल की, परन्तु उसका फोन बन्द आ रहा था।
उसके बाद हमने गांव खेडला में भी फोन करके पता किया तो गांव वालों से मालूम हुआ कि मेरा पुत्र गुलशन खेडला आया था लेकिन अब गायब है। रिश्तेदारों के साथ गांव खेडला फरीजनपुर में आई तो पुत्र गुलशन बैठक में बने एक कमरे में फांसी पर लटका मिला।
केस दर्ज कर पुलिस ने शुरू की जांच
पीड़िता का आरोप है कि कई महीने पहले आरोपियों ने गुलशन को रास्ते में घेरकर उसके साथ अनीकृत किया (अपना मलमूत्र पिलाया) था। पुलिस ने पीड़िता की शिकायत पर आरोपियों के सभी खिलाफ मामला दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है।

Share On