दलहन व तिलहन की खेती पर मिलेगी चार हजार प्रति एकड़ की सहायता, जानें सभी फसलों के नाम

दलहन, तिलहन की खेती कर किसान दोहरा लाभ उठा सकते हैं। हरियाणा सरकार ने नूंह,  झज्जर सहित दक्षिण हरियाणा के सात जिलों नामत: भिवानी, चरखी दादरी, महेंद्रगढ़, रेवाड़ी, हिसार के लिए विशेष योजना की शुरू की है। नूंह के डीसी अजय कुमार ने बताया कि योजना को अपनाने वाले किसानों को चार हजार रुपए प्रति एकड़ के हिसाब से वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी।

Created By : Shiv Kumar on :20-06-2022 22:37:47 नूंह के डीसी अजय कुमार खबर सुनें

शेरसिंह डागर, नूंह
दलहन और तिलहन फसलों की खेती कर किसान दोहरा लाभ उठा सकते हैं। सरकार की ओर से नूंह, झज्जर सहित दक्षिण हरियाणा के सात जिलों नामत: भिवानी, चरखी दादरी, महेंद्रगढ़, रेवाड़ी, हिसार के लिए विशेष योजना की शुरुआत की गई है। योजना को अपनाने वाले किसानों को चार हजार रुपए प्रति एकड़ के हिसाब से वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी। उपायुक्त अजय कुमार ने बताया कि सरकार किसानों की लागत को कम करके उनकी आमदनी बढ़ाने के लिए लगातार प्रयास कर रही है और इसी कड़ी में किसानों की भलाई के लिए सरकार द्वारा नई योजनाओं की शुरुआत की जाती है। सरकार द्वारा ऐसी ही एक योजना की शुरुआत करते हुए किसानों को दलहन और तिलहन फसलों को अपनाने की अपील की है। गौरतलब है कि दाल वाली फसलें मृदा के स्वास्थ्य को अच्छा बनाती हैं और हवा की नाइट्रोजन को जमीन में फिक्स करती हैं, इससे भूमि की उर्वरा शक्ति बढ़ती है।

ये भी पढ़ें

हरियाणा: तावडू में पेयजलापूर्ति नहीं होने की वजह से बिफरी महिलाएं, बीते 10 दिनों से क्षतिग्रस्त है पाइप लाइन

इस तरह किसानों को खेत में नाइट्रोजन फर्टिलाइजर की कम मात्रा की जरूरत पडेगी। तिलहन वाली फसलों को बढ़ावा देने से देश में खाद्य तेल की कमी को भी पूरा किया जा सकेगा। उन्होंने बताया कि कृषि एवं किसान कल्याण विभाग की अतिरिक्त मुख्य सचिव डॉ. सुमिता मिश्रा ने भी जिला के किसानों को योजना को लेकर जागरूक करने के लिए अधिकारियों को निर्देश दिए हैं। डीसी ने बताया कि सरकार द्वारा फसल विविधीकरण के अंतर्गत दलहन व तिलहन की फसलों को बढ़ावा देने के लिए इस नई योजना की शुरुआत की गयी है। प्रदेश में खरीफ 2022 के दौरान एक लाख एकड़ में दलहनी व तिलहनी फसलों को बढ़ावा देने का लक्ष्य है। इस योजना के अन्तर्गत दलहनी फसलें (मूँग व अरहर) को 70,000 एकड़ क्षेत्र में और तिलहन फसल (अरण्ड व मूँगफली) को 30,000 एकड़ में बढ़ावा दिया जाएगा।

ये भी पढ़ें

महाराष्ट्र के सांगली में एक ही परिवार के नौ लोगों ने की खुदकुशी, पूरे क्षेत्र में मचा हड़कंप


किसान को मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल पर पंजीकरण करवाना जरूरी
डीसी ने कहा कि दलहन व तिलहन की फसल लगाने वाले किसान को 4,000 रुपये प्रति एकड़ वित्तीय सहायता प्रदान की जायेगी। यह योजना दक्षिण हरियाणा के सात जिलों नामत: नूंह, भिवानी, चरखी दादरी, महेन्द्रगढ, रेवाड़ी, हिसार में खरीफ 2022 के दौरान लागू की जायेगी। योजना का लाभ लेने वाले किसान को मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल पर पंजीकरण करवाना जरूरी है। वित्तीय सहायता फसल के सत्यापन के उपरान्त किसानों के खातों में स्थानान्तरण की जाएगी।

Share On