शिक्षा विभाग के आदेश दरकिनार, डेढ़ बजे तक खुल रहे स्कूल

जिले के निजी स्कूलों द्वारा शिक्षा विभाग के आदेशों को दरकिनार किया जा रहा है। निजी स्कूल संचालक मनमर्जी से स्कूल खोल रहे हैं। ऐसे में बच्चों को गर्मी से कोई राहत नहीं मिल पा रही।

Created By : Pradeep on :13-05-2022 15:34:03 प्रतीकात्मक तस्वीर खबर सुनें

देश रोजाना, पलवल
जिले के निजी स्कूलों द्वारा शिक्षा विभाग के आदेशों को दरकिनार किया जा रहा है। निजी स्कूल संचालक मनमर्जी से स्कूल खोल रहे हैं। ऐसे में बच्चों को गर्मी से कोई राहत नहीं मिल पा रही। जबकि शिक्षा विभाग की ओर से बच्चों को गर्मी के मौसम से बचाने के लिए समय में बदलाव करने के आदेश किए हैं। वहीं इस बारे में जिला शिक्षा अधिकारी ने सभी खंड शिक्षा अधिकारियों को अपने क्षेत्र के ऐसे स्कूलों की सूची तैयार करने के आदेश दिए हैं, जाकि उनपर कार्रवाई की जा सके।

ये भी पढ़ें

आम आदमी पार्टी ने आदेश गुप्ता के घर और दफ्तर पर बुलडोजर चलाने की मांग की

बता दें कि विद्यालय शिक्षा निदेशालय की ओर से दो मई को आदेश जारी किए गए थे। जिसमें बताया गया था कि सभी सरकारी और निजी स्कूलों का समय सुबह सात से लेकर दोपहर 12 बजे तक रहेगा। साथ ही सभी स्कूलों को गाइडलाइन का पालन करने के निर्देश भी दिए गए थे। लेकिन इन सबके बावजूद निजी स्कूलों में मनमानी चल रही है। स्कूलों को दोपहर डेढ से दो बजे तक खोला जा रहा है। ऐसा ही शुक्रवार को देखने को मिला। जहां डेढ़ बजे के बाद अधिकतर निजी स्कूलों की बसें बच्चों को लेकर जाती हुईं नजर आईं।

ये भी पढ़ें

हिमाचल के बाद अब पंजाब में पार्क की दीवार पर लिखा `खालिस्तान जिंदादाबाद`, जांच में जुटी पुलिस

गर्मी अधिक होने के कारण किया समय में बदलाव

पिछले सालों के मुकाबले इस अप्रैल माह से ही अधिक गर्मी रही है। अप्रैल में गर्म हवा चल रही थी। जबकि ऐसा मौसम जून माह में रहता है। ऐसे में विद्यार्थियों को स्कूलों में मुश्किल हो रही थी। इसी कारण शिक्षा विभाग की ओर से समय बदलाव के निर्देश दिये गये थे।

ये भी पढ़ें

India Corona Update: पिछले 24 घंटे में कोविड के 2841 नए केस मिले, दिल्ली नंबर एक पर

-------

-गर्मी के कारण सभी स्कूलों को समय सुबह सात बजे से दोपहर 12 बजे तक का है। लेकिन विभाग को सूचना मिली है कि निजी स्कूल 12 बजे के बाद भी स्कूलों में बच्चों को पढ़ा रहे हैं। इस विषय में खंड शिक्षा अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं कि वे अपने अपने क्षेत्र में चल रहे ऐसे स्कूलों की लिस्ट बनाकर भेजें। ताकि उन स्कूलो के खिलाफ कार्रवाई की जा सके।

-अशोक बघेल, जिला शिक्षा अधिकारी

Share On