सड़कें ठीक रखकर बचा सकते हैं जान

ज्यादातर सड़कों पर संकेतक तक नहीं लगे हैं। हाईवे हो या लिंक मार्ग के बीच में लगे कट से जब कोई एकाएक भागती कार, ट्रक या बस के सामने कोई आ खड़ा होता है, तो हादसा होना स्वाभाविक है।

Created By : ashok on :18-11-2022 13:48:50 संजय मग्गू खबर सुनें

संजय मग्गू
किसी भी राज्य की सड़कें उसकी आर्थिक संपन्नता और सरकारों की कार्यकुशलता का परिचायक होती हैं। सड़कें ही बताती हैं कि उस प्रदेश की अर्थव्यवस्था और उद्योगों की स्थिति का हाल बताती हैं। हरियाणा में सड़कों का काफी विकास हुआ है, लेकिन अभी बहुत कुछ करने की जरूरत है। प्रदेश के किसी भी कोने में निकल जाइए, हाईवे और एक्सप्रेस वे की हालत तो एकदम चुस्त-दुरुस्त है, लेकिन शहर की सड़कों और संपर्क मार्गों की हालत काफी खराब है। इन सड़कों से गुजरना, एक अलग किस्म की अनुभूति पैदा करती है। इन सड़कों पर जगह-जगह बने ब्लैक स्पाट और डिवाइडरों के कट हादसों को आमंत्रण देते हैं। ज्यादातर सड़कों पर संकेतक तक नहीं लगे हैं। हाईवे हो या लिंक मार्ग के बीच में लगे कट से जब कोई एकाएक भागती कार, ट्रक या बस के सामने कोई आ खड़ा होता है, तो हादसा होना स्वाभाविक है।

ये भी पढ़ें

भारत की छवि खराब करेगी विदेशों को नकली दवा की आपूर्ति

अधिकतर सड़कों के बीच में अवैध कट लगे हुए हैं जिसके चलते आए दिन हादसे होते रहते हैं। अब तक हुए सर्वे में यह बात सामने आई है कि बाटलनेक, ब्लैक स्पाट, अवैध कट, सड़कों की गलत डिजाइन और रात में सड़कों पर पसरा अंधेरा सड़क हादसों को जन्म देता है। रात में वैसे भी गाड़ियों की स्पीड़ दिन की अपेक्षा कुछ ज्यादा ही होती है। ऐसे में यदि थोड़ी सी भी कोई बाधा आ खड़ी होती है, तो भीषण सड़क हादसे हो जाते हैं। यदि सड़कों की कुछ खामियों को दूर कर दिया जाए, तो हादसों में निस्संदेह कमी आ सकती है। इसके लिए जरूरी है कि सड़क पर दिन हो या रात, चलते समय नियमों का पालन किया जाए। वाहन चालकों का स्वअनुशासन ही सड़क हादसों पर लगाम लगा सकता है। वाहन का फिट होना जितना जरूरी है, उतना सड़क की सेहत भी दुरुस्त होनी जरूरी है।

सड़कों की दशा जितनी मानक के अनुरूप होगी, सड़कों पर जान जाने का खतरा उतना ही कम होगा। वाहन चलाते समय चालकों को इस बात का ख्याल रखना होगा कि यदि वे सड़क के नियमों का पालन करते हैं, तो वे न केवल अपनी जान की सुरक्षा करते हैं, बल्कि दूसरों की जान भी बचाते हैं। यही वजह है कि प्रदेश के गृहमंत्री अनिल विज ने पुलिस विभाग के आला अफसरों की बैठक बुलाकर लेन ड्राइविंग का माहौल तैयार करने का निर्देश दिया है।

Share On