बिलासपुर के मयंक वैद्य ने हांगकांग में बनाया ये रिकॉर्ड, गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स बुक में हुआ दर्ज

बिलासपुर जिले के निवासी मयंक वैद्य ने हांगकांग में 10 दिनों में सबसे तेज समय में 10 मैराथन ट्रेडमिल पर पूरा करके विश्व रिकॉर्ड बनाया है। इस रिकॉर्ड ने मयंक को गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स बुक में दर्ज किया गया है।

Created By : Sapna on :29-09-2022 20:09:31 गिनीज बुक वर्ल्ड रिकॉर्ड और प्रशंसकों के साथ मयंक वैद्य खबर सुनें

अरुण डोगरा, बिलासपुर
बिलासपुर जिले के निवासी मयंक वैद्य ने हांगकांग में 10 दिनों में सबसे तेज समय में 10 मैराथन ट्रेडमिल पर पूरा करके विश्व रिकॉर्ड बनाया है। इस रिकॉर्ड ने मयंक को गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स बुक में दर्ज किया गया है। उनकी इस उपलब्धि से पूरे बिलासपुर में प्रसन्नता की लहर है और हिमाचल भी अपने आप को गर्वित महसूस कर रहा है।हांगकांग से यह जानकारी देते हुए मयंक वैद्य ने बताया कि उन्होंने 16 सितंबर से 25 सितंबर 2022 के बीच हांगकांग फुटबॉल क्लब में हर दिन ट्रेडमिल पर मैराथन दौड़ लगाई। इन 10 दिनों में उन्होंने ट्रेडमिल पर 421.95 किलोमीटर दौड़ लगाई। इसका पिछला रिकॉर्ड 38 घंटे और 30 मिनट का था।

ये भी पढ़ें

उत्तराखंड में लागू होगा तेलंगाना मॉडल वाश, हैदराबाद से आई टीम उत्तराखंड में तलाश रही संभावना, राज्यपाल से की मुलाकात


मयंक ने सभी दस मैराथन को पूरा करने के लिए कुल 31 घंटे 21 मिनट का समय लिया। इस तरह से मयंक ने नया वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया। ट्रेडमिल पर दौड़ते समय उन्होंने कभी कोई संगीत नहीं सुना और टेलीविजन भी नहीं देखा। भले ही मयंक ने हांगकांग में इस इवेंट को अंजाम दिया लेकिन उन्होंने भारत का प्रतिनिधित्व किया। रिकॉर्ड प्रमाण पत्र पर यह स्पष्ट रूप से दर्शाता है कि विश्व रिकॉर्ड भारत का है । अपने चरम ट्रायथलॉन के साथ-साथ, वैद एवरेस्ट ट्रायथलॉन को पूरा करने वाले पहले व्यक्ति भी हैं, 9,000 मीटर तैरते हुए, फिर एवरेस्ट की ऊंचाई जमा करने के लिए एक पहाड़ी के ऊपर और नीचे दौड़ते हुए और फिर एक बाइक पर उसी को दोहराते हुए उन्होंने पहले भी कई रिकॉर्ड बनाए हैं। मयंक ने कहा कि अब वह अब बाहर पहाड़ों पर दोस्तों के साथ दौड़ने वाले हैं। उन्होंने कहा कि उन्हें एक नया जुनून मिला है, कि वह तेज दौड़ सकते हैं। मयंक की उपलब्धि और भी प्रभावशाली है क्योंकि उन्होंने इस दौरान अपने दैनिक जीवन को प्रभावित नहीं होने दिया। उन्होंने 6 बजे बच्चों को स्कूल छोड़ा। वह लगभग 11 बजे फ़ुटबॉल क्लब के लिए रवाना हुए, एक मैराथन दौड़ लगाई, और शाम 7 बजे तक अपने कार्यालय वापस आ गए।

Share On