मेवात जिला 12वीं के नतीजों में सबसे पीछे आया, नूंह विधायक ने डीसी से पूछे कारण, जिम्मेदारों पर कार्रवाई की मांग उठाई

मेवात जिला 12वीं के हरियाणा बोर्ड के नतीजों में सबसे पीछे आया है। वहीं कांग्रेस नेता एवं नूंह विधायक चौधरी आफताब अहमद ने इसपर पर चिंता जताई है। वहीं नूंह विधायक ने 12वीं के नतीजों में मेवात के सबसे पीछे आने के कारण डीसी अजय कुमार से पूछे हैं।

Created By : Shiv Kumar on :01-07-2022 21:55:27 नूंह विधायक चौधरी आफताब अहमद खबर सुनें
ये भी पढ़ें

ग्रामीण निर्माण विभाग को कार्यदायी संस्था बनाने पर मंथन, विभाग के स्वर्ण जयंती समारोह में कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज ने की घोषणा

शेरसिंह डागर, नूंह
मेवात जिले के बारहवीं के नतीजे प्रदेश में सबसे खराब आने के मामले को लेकर नूंह विधायक एवं कांग्रेस विधायक दल के उप नेता चौधरी आफताब अहमद ने जिला उपायुक्त अजय कुमार आईएएस से मिटिंग की व इन नतीजों पर अपनी गंभीर चिंता व्यक्त की है। आफताब अहमद ने जिला उपायुक्त से कहा कि इन कारणों का पता लगाया जाए कि क्यों मेवात जिला 12वीं के हरियाणा बोर्ड के नतीजों में सबसे पीछे रहे हैं, इसके लिए कौन जिम्मेदार है, ये तय किया जाना चाहिए व जवाबदेही सुनिश्चित की जाए। आकांक्षावान जिले का सबसे फिसड्डी परीक्षा परिणाम शिक्षा विभाग व सरकार की पोल खोलता है। आपको बता दें कि नूंह विधायक आफताब अहमद ने मामले का संज्ञान लेते हुए जिला उपायुक्त से बैठक की जबकि विधायक ने जिला शिक्षा अधिकारी को भी बैठक में तलब किया लेकिन जिला शिक्षा अधिकारी चंडीगढ़ में होने के कारण बैठक में नहीं पहुंच सके।


विधायक आफताब अहमद ने कहा कि मेवात जिला, हरियाणा बोर्ड की 12 वीं की परीक्षा में पूरे प्रदेश में अंतिम स्थान पर है, ये चिंताजनक व दुर्भाग्यपूर्ण है, ये ऐसा विषय है जिससे हमारे बच्चों का भविष्य जुड़ा हुआ है। खराब नतीजे मेवात के भविष्य के लिए अच्छे संकेत नहीं है इसलिए समय रहते हुए इस मसले पर सुधार की बहुत ज्यादा जरूरत है। इसीलिए जिला उपायुक्त से इस मामले में बैठक की गई है।

ये भी पढ़ें

एटीएम लूट के दो और आरोपित गिरफ्तार


चौधरी आफताब अहमद ने बैठक में जिला उपायुक्त अजय कुमार आईएएस को एक पत्र सौंपकर कहा कि मेवात जिला, हरियाणा बोर्ड की 12 वीं की परीक्षा नतीजों में प्रदेश में सबसे फिसड्डी क्यों है, इसके कारण ढूंढे जाए व इस खराब परिणाम के लिए जिम्मेदार कौन है। उन्होंने कहा क्या ये नहीं माना जाए कि मेवात के जिला शिक्षा अधिकारी जो बीते एक साल में जिले में रहे, उनका प्रदर्शन व कार्य प्रदेश में सबसे फिसड्डी रहा। विधायक आफताब अहमद ने जिला उपायुक्त से पूछा कि 7028 बच्चों में से 1485 छात्र कैसे फेल हो गये। उन्होंने जिला उपायुक्त से कहा कि भविष्य में इन खराब नतीजों को सुधारने व जिले को अंतिम पायदान से ऊपर उठने के लिए क्या योजना है, उसका रोडमैप ढूंढा जाए।


अहमद ने डीसी से कहा कि मेवात में स्थाई शिक्षक नियुक्ती की दरकार है, गैर सरकारी संगठनों के द्वारा की जा रही भर्तियों से अधिक सुधार की उम्मीद पूरी तरह से बेमानी है। इन भर्तियों में सिर्फ मेवात के युवाओं को तरजीह दी जाए क्योंकि दूर जिलों के लोग यहां कम वेतन में काम नहीं करेंगे। इसलिए एक बार फिर मौका देकर परीक्षा आयोजित की जाए और स्थानीय पात्र युवाओं को नौकरी दी जाए। इस पर डीसी ने विधायक को आश्वासन दिया की जल्द स्थाई नियुक्ती को शुरू किया जाएगा।

ये भी पढ़ें

चोरी के सरिया के साथ तीन आरोपित गिरफ्तार


विधायक ने डीसी को सुझाव देते हुए कहा कि सभी प्राध्यापकों व प्रवक्ताओं से इन नतीजों को सुधारने के लिए सुझाव लिए जाएं व उन्हें भी अमल में लाया जाए।डीसी ने आश्वासन दिया है कि वो जिला शिक्षा अधिकारी व शिक्षा विभाग से इस बाबत पूरी रिपोर्ट लेकर विधायक नूंह के साथ बैठक करेंगे व कारणों का अध्ययन करके, समाधान करने का काम करेंगे।

Share On