अब संपत्ति को क्षति पहुंचाने वाले भुगतेंगे

देश में आए दिन होने वाली हड़ताल, विरोध प्रदर्शन के दौरान होने वाले उपद्रव के चलते लाखों-करोड़ों रुपये की संपत्ति का नुकसान होता है। हरियाणा में भी कई बार विरोध-प्रदर्शन के नाम पर उपद्रव हुए हैं।

Created By : ashok on :03-12-2022 15:42:37 संजय मग्गू खबर सुनें

संजय मग्गू
देश में आए दिन होने वाली हड़ताल, विरोध प्रदर्शन के दौरान होने वाले उपद्रव के चलते लाखों-करोड़ों रुपये की संपत्ति का नुकसान होता है। हरियाणा में भी कई बार विरोध-प्रदर्शन के नाम पर उपद्रव हुए हैं। वर्ष 2016 में प्रदेश में हुए हिंसक जाट आंदोलन के चलते कई शहरों में कर्फ्यू तक लगाए गए थे। उस दौरान प्रदेश की सरकारी और निजी संपत्ति को कफी नुकसान पहुंचा गया था। अरबों रुपये की संपत्ति दंगाइयों ने फूंक दी थी। कई लोगों को इन दंगों में अपनी जान गंवानी पड़ी थी। इस आंदोलन के चलते कई लोग घायल हुए थे। इस हिंसक आंदोलन में शरीक होने वाले काफी लोगों पर मुकदमे आज भी चल रहे हैं।

ये भी पढ़ें

भागदौड़ भरी जिंदगी में स्वस्थ रहने के चार मंत्र

लेकिन अब प्रदेश सरकार ने फैसला किया है कि आंदोलन या विरोध-प्रदर्शन के दौरान जो लोग उपद्रव करते या सरकारी और निजी संपत्ति को नुकसान पहुंचाते पाए जाएंगे, उनके खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी। कल यानी गुरुवार को हुई मंत्रिमंडल की बैठक में फैसला लिया गया है कि ऐसा करने वालों के खिलाफ सार्वजनिक व्यवस्था में गड़बड़ी के दौरान संपत्ति को हुए नुकसान की वसूली नियम 2022 को मंजूरी दी गई है। अब इस संबंध में नोटीफिकेशन जारी किया जाएगा। इसके बाद यह नियम पूरे प्रदेश में लागू हो जाएगा। वैसे इस संबंध में प्रदेश सरकार पहले भी कानून बना चुकी है। किसी भी आंदोलन, हड़ताल या दंगे के दौरान सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने की स्थिति में संबंधित लोगों से भरपाई करने का प्रावधान इस कानून में था। उत्तर प्रदेश में ऐसा ही कानून पहले ही लागू हो चुका है।

ये भी पढ़ें

जिसके हृदय में गीता, उसने जग जीता

अब ऐसा कानून लागू करने वाला दूसरा राज्य होगा। वैसे भी हरियाणा में किसी न किसी बात को लेकर आए दिन हड़ताल होते रहते हैं। कभी किसान आंदोलन, शिक्षक आंदोलन,, छात्र आंदोलनों के साथ-साथ राजनीतिक दल बंद या हड़ताल का आह्वान करते रहते हैं। इस दौरान लोगों के अराजक हो जाने पर आंदोलन हिंसक हो जाता है। इसकी वजह से जहां सरकारी संपत्ति को नुकसान तो होता ही है, निजी संपत्ति को भी नुकसान पहुंचाने से उपद्रवी नहीं हिचकते हैं। अब ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई हो सकेगी और उनसे हुए नुकसान की भरपाई का रास्ता भी साफ हो गया है।

Share On