Pariksha Pe Charcha: बेहतर रिजल्ट के लिए परीक्षा में कैसे करें तैयारी, PM मोदी ने बताए ये 5 सबक

परीक्षा पे चर्चा कार्यक्रम के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी शुक्रवार को देश के लाखों बच्चों के सामने मुखातिब हुए। दिल्ली स्थित तालकटोरा स्टेडियम में आयोजित इस बेहद विशेष और लोकप्रिय कार्यक्रम में पीएम नरेंद्र मोदी ने कई टिप्स भी दिए। पीएम मोदी ने छात्रों से कहा कि परीक्षा को किसी त्योहार का रूप दे दें।

Created By : Shiv Kumar on :01-04-2022 15:20:13 पीएम नरेंद्र मोदी खबर सुनें

एजेंसी, दिल्ली।
हर वर्ष मार्च, अप्रैल के महीने देश में परीक्षा का सीजन होता है। इन स्थितियों में छात्र अच्छे नंबर पाने के लिए दिन-रात कड़ा परिश्रम करते हैं। कई बार प्रतियोगिता के इस दौर में भारी दबाव के चलते छात्र का हौसला टूट जाता है। इसलिए पीएम नरेंद्र मोदी परीक्षा के दिनों में हर वर्ष छात्रों से अपने खास कार्यक्रम परीक्षा पे चर्चा के दौरान छात्रों की हौसला अफजाई करते हैं।. इसी कड़ी में पीएम मोदी शुक्रवार को देश के लाखों बच्चों के सामने मुखातिब हुए। दिल्ली स्थित तालकटोरा स्टेडियम में आयोजित इस बेहद विशेष एवं लोकप्रिय कार्यक्रम में पीएम मोदी ने छात्रों के लिए कई टिप्स भी दिए।

ये भी पढ़ें

‘कांग्रेस मुक्त भारत’ या ‘कांग्रेस युक्त भाजपा’


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि छात्रों परीक्षा को एक त्योहार जैसा बना दें। छात्र अपनी तैयारियों पर मंथन करें। साथ ही रीप्ले करने की आदत बनाएं। एसा करने से आपको नई दृष्टि प्राप्त होगी। आईए एक नजर डालते हैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पांचों सबक पर….

ये भी पढ़ें

चारधाम यात्रा: ट्रैफिक प्रबंधन में होगा ड्रोन का इस्तेमाल

1.
मन में तय करें कि एग्जाम जीवन का सहज हिस्सा है। हमारी विकास यात्रा के ये छोटे-छोटे पड़ाव हैं। ऐसे पड़ाव को पहले भी हम पार कर चुके हैं। पहले भी हम कई बार एग्जाम दे चुके हैं। जब ये भरोसा पैदा हो जाता है तो आने वाली परीक्षा के लिए ये अनुभव आपकी शक्ति बन जाती हैं।


2.
आपके मन में जो खलबली होती है, उसके लिए आप किसी दबाव में ना रहें। जितनी सहज दिनचर्या आपकी रहती है, उसी सहज दिनचर्या में आप अपने आने वाले एग्जाम के वक्त को गुजारें।

ये भी पढ़ें

Chaitra Navratri 2022: नवरात्र 2 अप्रैल से, मां दुर्गा की होगी पूजा-आराधना

3.
दिन में कुछ पल ऐसे निकालें, जब आप ऑनलाइन न हों, ऑफलाइन भी न हों बल्कि इनरलाइन होंगे। जितना खुद के अंदर जाएंगे, आप खुद की शक्ति को मसूस करेंगे। यदि इन चीजों को कर लेते हैं तो ये सारे संकट आपसे मुकाबला नहीं कर पाएंगे।

ये भी पढ़ें

कांग्रेस ने रखा दस लाख सदस्य बनाने का लक्ष्य, विधानसभा चुनाव के कारण रोका गया सदस्यता अभियान फिर हुआ शुरू


4.
ध्यान बहुत सरल है। आप जिस क्षण में हैं, उस क्षण को जीने का प्रयास करिए। यदि आप उस क्षण को जी भरकर जीते हैं तो वो आपकी शक्ति बन जाता है। भगवान की सबसे बड़ी सौगात वर्तमान है। जो वर्तमान को समझ पाता है, जो उसे जी पाता है, उसके लिए भविष्य के लिए कोई सवाल नहीं होता है।

ये भी पढ़ें

महंगाई की एक और मार, कमर्शियल रसोई गैस एलपीजी की कीमत में 250 रुपये प्रति सिलेंडर की बढ़ोतरी

5.
कभी-कभी आप स्वयं की भी परीक्षा लें, अपनी तैयारियों पर मंथन करें, रीप्ले करने की आदत बना लें, इससे आपको नई सोच मिलेगी। एक्सपीरियंस को आत्मसात करने वाले रीप्ले बड़ी आसानी से कर लेते हैं, जब आप खुले मन से चीजों से जुड़ेंगे तो कभी भी निराशा आपके द्वार पर दस्तक नहीं दे पाएगी।

Share On