सूरज ने जेल में बंदी रहते हुए पास किया आईआईटी जैम एग्जाम, हर कोई कर रहा सराहना

बिहार की एक जेल में मर्डर केस में बंदी सूरज ने ऑल इंडिया में 54वां रैंक हासिल किया है। इस कामयाबी के बाद सूरज आईआईटी रूड़की में दाखिला लेकर मास्टर डिग्री कोर्स कर सकेगा। परिवार के अनुसार सूरज की इस कामयाबी में तत्कालीन मंडल काराधीक्षक अभिषेक कुमार पांडेय की अहम भूमिका रही है।

Created By : Shiv Kumar on :24-03-2022 15:31:34 सूरज कुमार खबर सुनें

एजेंसी, नवादा।
कहते हैं कि इरादे मजबूत हों तो हर कठनाई आसानी से पार की जा सकती है। जेल में बंद एक युवा कैदी ने जेल में रहते हुए ऐसा ही कुछ कर दिखाया है। हम यहां हत्या केस में जेल में बंद सूरज कुमार उर्फ कौशलेंद्र के बारे में बात कर रहे हैं। उसने आईआईटी की ज्वाइंट एडमिशन टेस्ट फॉर मास्टर्स (जैम) के एग्जाम में कामयाबी पाई है। आईआईटी रुड़की द्वारा आयोजित इस एग्जाम में सूरज कुमार ने ऑल इंडिया 54वां रैंक प्राप्त किया है।

ये भी पढ़ें

कैसा रहेगा आपके लिए ये शुक्रवार, जानें आज का राशिफल (today horoscope 25 March 2022)


विचाराधीन बंदी सूरज वारिसलीगंज थाना इलाके स्थित मोसमा गांव का निवासी है। वह करीब एक वर्ष से मर्डर केस में जेल में बंद है। मंडल कारा नवादा में रहते हुए सूरज कुमार ने इस कठिन एग्जाम की तैयारी की। एग्जाम की तैयारी में जेल प्रशासन ने भी सूरज की काफी सहायता की। कड़ा परिश्रम और लगन से सूरज कुमार ने जेल में रहते हुए एग्जाम की तैयारी की।


आपको बता दें कि सूरज कुमार मर्डर के आरोप में अप्रैल 2021 से जेल में बंद है। जानकारी के अनुसार बिहार के नवादा जिले के वारिसलीगंज प्रखंड के मोसमा गांव में रास्ता विवाद के चलते दो परिवारों में अप्रैल 2021 को जमकर मारपीट हुई थी। इस दौरान संजय यादव गंभीर रूप से घायल हो गए थे। उपचार के लिए पटना पहुंचाने के दौरान उन्होंने दम तोड़ दिया। उस दौरान मृतक के पिता बासो यादव ने सूरज, उसके पिता अर्जुन यादव सहित नौ लोगों पर मामला दर्ज कराया था। 19 अप्रैल 21 को पुलिस ने सूरज सहित चार आरोपियों को अरेस्ट किया और जेल भेज दिया था। उसी दौरान से सूरज जेल में बंदी है।

ये भी पढ़ें

बांग्लादेश के स्कूल में भी लगा बुर्के पर बैन, हिजाब पहनकर कक्षा में दाखिल हो जाते थे अज्ञात लड़के और लड़कियां

पिछले वर्ष भी मिली थी कामयाबी, जेल जाने की वजह से नहीं ले पाया था दाखिला
विशेष बात ये है कि सूरज ने बीते वर्ष भी इस एग्जाम को पास किया था व उसे ऑल इंडिया में 34वां रैंक हासिल था पर ऐन वक्त पर हत्या मामले में वह फंस गया। जेल जाने के बाद भी सूरज कुमार के इरादे कम नहीं हुए। वहीं आज सूरज कुमार ने जेल में बंदी रहते हुए ये कारनामा करके दिखा दिया। जारी आईआईटी परिणाम में सूरज को ऑल इंडिया में 54वां रैंक प्राप्त हुआ है। इसके साथ ही सूरज अब आईआईटी रूड़की में दाखिला लेकर मास्टर डिग्री कोर्स कर पाएगा। जो भी सूरज की इस कामयाबी के बारे में जान रहा है, वही उसकी सराहना कर रहा है। इसके लिए सूरज ने कड़ा परिश्रम किया, इसमें जेल प्रबंधन का भी उसका पूरा सहयोग किया।

Share On