पंजाब के स्कूलों के 170 टीचर्स के प्रतिनिधिमंडल ने दिल्ली के विद्यालयों का किया दौरा

पंजाब सरकार के स्कूलों के 170 टीचर्स और एजुकेटर्स के एक प्रतिनिधिमंडल ने अपने एससीईआरटी डायरेक्टर के नेतृत्व में  दिल्ली सरकार के स्कूलों का दौरा किया और हैप्पीनेस क्लास सहित विभिन्न टीचिंग-लर्निंग एक्टिविटीज को देखा। ये सभी त्यागराज स्टेडियम में हैप्पीनेस उत्सव के समापन समारोह में भी शामिल होंगे।

Created By : Pradeep on :29-07-2022 16:35:31 पंजाब के स्कूलों के 170 टीचर्स के प्रतिनिधिमंडल ने दिल्ली के विद्यालयों का किया दौरा खबर सुनें

नई दिल्ली
पंजाब सरकार के स्कूलों के 170 टीचर्स और एजुकेटर्स के एक प्रतिनिधिमंडल ने अपने एससीईआरटी डायरेक्टर के नेतृत्व में दिल्ली सरकार के स्कूलों का दौरा किया और हैप्पीनेस क्लास सहित विभिन्न टीचिंग-लर्निंग एक्टिविटीज को देखा। ये सभी त्यागराज स्टेडियम में हैप्पीनेस उत्सव के समापन समारोह में भी शामिल होंगे। प्रतिनिधि मंडल के स्कूल विजिट के बाद दिल्ली के उपमुख्यमंत्री व शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने कालकाजी स्थित वीर सावरकर सर्वोदय विद्यालय में मुलाकात की और उन्हें ध्वजवाहक के रूप में पंजाब की शिक्षा प्रणाली में बदलाव लाने के लिए प्रेरित किया।


शिक्षकों के साथ बातचीत करते हुए सिसोदिया ने कहा कि आज हम शिक्षा के क्षेत्र में जो कुछ भी करते हैं, उसका उद्देश्य देश की तरक्की होना चाहिए। उन्होंने कहा कि ‘जब दिल्ली में हमने शिक्षा पर काम करना शुरू किया, तो हमारी टीम ने स्कूलों में प्रमुखों और शिक्षकों के साथ लगातार बातचीत की। उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार के स्कूलों में आए बदलाव और हमारे माइंडसेट करिकुलम हमारे स्कूलों के प्रधानाचार्यों और शिक्षकों के इनोवेटिव आइडियाज के कारण ही संभव हो सकें।

मनीष सिसोदिया ने कहा कि जिस तरह दिल्ली में हमारे स्कूल प्रमुख और शिक्षकों ने काम किया अब ठीक उसी तरह पंजाब सरकार के स्कूलों के टीचर्स को एक शिक्षा मंत्री की तरह सोचने और पंजाब में शिक्षा क्रांति शुरू करने की जरुरत है। उन्होंने शिक्षकों को सुझाव दिया कि वे हमेशा पंजाब के शिक्षा मंत्री के संपर्क में रहें और उन्हें अपने इनोवेटिव आइडियाज भेजते रहें।

पंजाब सरकार के स्कूल के शिक्षक दिल्ली के सरकारी स्कूलों के अपने दौरे से बेहद खुश दिखाई दिए। उन्होंने छोटे समूहों में दिल्ली सरकार के 35 स्कूलों का दौरा किया। अपनी यात्रा के दौरान उन्होंने शिक्षकों और छात्रों के साथ बातचीत की और माइंडसेट पाठ्यक्रम की कक्षाओं में भी भाग लिया। इन शिक्षकों में से एक ने अपना अनुभव साझा करते हुए कहा कि “मैं दिल्ली सरकार के स्कूलों में शिक्षकों और छात्रों के बीच स्कूल को लेकर ओनरशिप की जो भावना है उससे बेहद प्रभावित हुआ। दिल्ली के स्कूल के टीचर्स ने हमें अपना स्कूल ऐसे दिखाया जैसे यह उनका अपना घर हो।

Share On