पवित्र प्रेम किसी भी बंधन का मोहताज नहीं होता

जवानी के दिनों में एक फ्रांसीसी लड़की से मात्र कुछ मिनटों की मुलाकात ने एक ब्रिटिश सैनिक को इतना प्रभावित किया कि उसने उस लड़की की ब्लैक एंड ह्वाइट तस्वीर 78 साल तक अपने बटुए में रखी।

Created By : ashok on :17-11-2022 15:14:30 संजय मग्गू खबर सुनें

त्वरित टिप्पणी

संजय मग्गू
आज पता नहीं क्यों प्रेम पर कुछ लिखने का मन हो रहा है। ऐसा-वैसा प्रेम नहीं। बिल्कुल पाक साफ और दिल को छू लेने वाली कहानी। जवानी के दिनों में एक फ्रांसीसी लड़की से मात्र कुछ मिनटों की मुलाकात ने एक ब्रिटिश सैनिक को इतना प्रभावित किया कि उसने उस लड़की की ब्लैक एंड ह्वाइट तस्वीर 78 साल तक अपने बटुए में रखी। 78 साल बाद जब दोनों मिले, तो उनके प्रेम की ताजगी जवानों जैसी बरकरार थी। बात वर्ष 1944 की है। द्वितीय विश्व युद्ध चल रहा था। ब्रिटिश सेना के रायल इंजीनियर्स की 224 फील्ड कंपनी में युवा सैनिक रेग पाय जर्मन के खिलाफ मित्र राष्ट्रों की ओर लड़ने के लिए फ्रांस गए हुए थे। जब रेग पाय फ्रांस के स्वार्ड बीच पर कुछ समय के लिए सुस्ता रहे थे, तो वहां सैनिकों को खाना परोसने वाली वैन आई जिसमें से गार्डी नामक युवक ने उन्हें पिलचार्ड (मछली) और मार्गरीन के साथ लाल जैम लगी हुई ब्रेड दी।

ये भी पढ़ें

सरकार युद्ध स्तर पर गांवों-शहरों में चलाए स्वच्छता अभियान

तभी उन्होंने देखा कि गंदी सी ड्रेस पहनी हुई एक लड़की उन्हें घूर रही है। उस लड़की का नाम ह्यूगेट था। उन्होंने उस लड़की को पिलचार्ड आफर की, तो ह्यूगेट ने उसे लेने से मनाकर दिया। वह ब्रेड को घूर रही है। बीबीसी पर अपनी स्टोरी बताते हुए रेग पाय कहते हैं कि उन्हें याद नहीं है कि ह्यूगेट ने ब्रेड ली थी या नहीं। इसके बाद ह्यूगेट सामने के चर्च में भागती हुई चली गई। यह रेग पाय की ह्यूगेट से पहली मुलाकात थी। दूसरे दिन उसी जगह पर पड़े कबाड़ में रेग पाय को ह्यूगेट की तस्वीर मिली। यह तस्वीर उनके जीने का सहारा बनी। वैसे बाद में रेग पाय ने ब्रिटेन लौटकर मेरवेन से शादी की, जो 72 साल तक वैवाहिक जीवन बिताकर 2015 में इस दुनिया को छोड़ गईं। इसके बावजूद वह ह्यूगेट को नहीं भूल पाए। उन्होंने जीवन भर ह्यूगेट को खोजने का प्रयास किया। इसमें उनके पुत्र ने भी काफी मदद की। लेकिन 78 साल बाद रेग पाय और ह्यूगेट की दोबारा मुलाकात हुई।

तब तक रेग पाय 99 साल के हो चुके थे और ह्यूगेट 92 साल की। मुलाकात होने पर रेग पाय ने ह्यूगेट की पुरानी तस्वीर को दिखाते हुए कहा कि यह मेरे पास पिछले 78 साल से थी। दोनों लोग एक दूसरे से मिलकर खुश हुए। मिलने जाते समय रेग पाय पिलचार्ड (मछली) और जैम लगा हुआ ब्रेड लेकर गए थे, लेकिन इस बार भी ह्यूगेट ने मछली लेने से इनकार कर दिया। दोनों को आपस में बातचीत करने के लिए दुभाषिये का सहारा लेना पड़ा क्योंकि रेग पाय को फ्रेंच नहीं आती थी और ह्यूगेट को अंग्रेजी। रेग पाय और ह्यूगेट शायद अब शादी करने जा रहे हैं। यह कहानी एक निष्पाप और निर्मल प्रेम की दास्तां हैं। आज जब प्रेम के नाम पर धोखा, हत्या और लड़की को गर्भवती करके भाग जाने के किस्से सामने आते हैं, तो रेग पाय और ह्यूगेट की प्रेम कहानी हमें आश्वस्त करती है कि पवित्र और निर्मल प्रेम हर युग में पाया जाता रहा है, भविष्य में भी पाया जाता रहेगा। प्रेम किसी जाति, धर्म, भाषा, प्रांत या देश की परिधि का मोहताज नहीं होता है। वह एक भावना है। इस भावना में जितनी पवित्रता होगी, वह उतना ही प्रखर और कालजयी होगा। यह रेग पाय और ह्यूगेट का पवित्र प्रेम ही था जिसने उन्हें 78 साल बाद ही सही उन्हें मिला दिया।

Share On