गैंगस्टरों के नाम पर वसूली चिंताजनाक

प्रदेश में कुछ लोग तो बड़े गैंगस्टरों के नाम पर वसूली करने में लगे हुए हैं। पानीपत में जिस तरह गैंगस्टरों के नाम पर रगंदारी वसूलने की कोशिश की गई, वह चिंताजनक है।

Created By : Manuj on :06-12-2022 15:32:16 संजय मग्गू खबर सुनें

गैंगस्टरों के नाम पर वसूली चिंताजनाक


संजय मग्गू


फोन पर धमकी देकर रंगदारी मांगने के मामले प्रदेश में बढ़ते ही जा रहे हैं। प्रदेश में कुछ लोग तो बड़े गैंगस्टरों के नाम पर वसूली करने में लगे हुए हैं। पानीपत में जिस तरह गैंगस्टरों के नाम पर रगंदारी वसूलने की कोशिश की गई, वह चिंताजनक है। पानीपत में एक मामला तो कुख्यात गैंगस्टर लारेंस बिश्नोई के नाम पर 50 लाख रुपये की रंगदारी मांगने का सामने आया है। वहीं पानीपत के ही थाना पुराना औद्योगिक क्षेत्र में एक फार्म हाउस चलाने वाले व्यक्ति से 25 लाख रुपये की रंगदारी मांगी गई है।

ये भी पढ़ें

ईरानी महिलाओं ने जीत ली पहली जंग

सबसे बड़ी बात यह है कि रंगदारी मांगने वाले व्यक्ति ने चिट्ठी में जिस तरह परिवार की गतिविधियों का ब्यौरा दिया है, वह चिंताजनक है। पत्र मे परिवार के दिए गए ब्यौरे से साफ है कि चिट्ठी भेजने वाला या तो करीबी व्यक्ति है या फिर कोई ऐसा गिरोह है जो पिछले काफी दिनों से परिवार की रैकी कर रहा था। यह दोनों स्थितियां काफी खतरनाक हैं। अक्सर देखने में यह आया है कि कुछ छोटे-मोटे गिरोह किसी कुख्यात गैंगस्टर, अपराधी या माफिया के नाम पर लोगों को डराकर वसूली करते हैं। वह लोगों का मनोविज्ञान काफी अच्छी तरह से समझते हैं। वे जानते हैं कि कुख्यात अपराधी का नाम लेने से लोग डर जाएंगे। वे पुलिस में शिकायत किए बिना मांगी गई रंगदारी आसानी से दे देंगे। होता भी यही है अक्सर। जिससे रंगदारी मांगी गई होती है,

वह बड़े गैंगस्टर का नाम सुनते ही डर जाता है। वह अपनी और अपने परिवार की जान बचाने के लिए बिना आगा-पीछा सोचे, मांगी गई रकम या कहे गए काम को करने को तैयार हो जाते हैं। इन अपराधियों का तो हौसला इतना बढ़ गया है कि अभी कुछ महीने पहले उन्होंने प्रदेश के पांच-छह विधायकों को भी धमकाकर रंगदारी वसूलने की कोशिश की थी। कांग्रेस के एक विधायक तो इतना परेशान हो गए थे

ये भी पढ़ें

विकासशील और विकसित दुनिया के बीच एक सेतु का काम करेगी भारत की जी20 अध्यक्षता

कि वे अपनी सदस्यता छोड़ने तक को तैयार हो गए थे। सरकार को चाहिए कि इन अपराधियों पर जल्दी से जल्दी अंकुश लगाकर जनता को इनकी लूट और भय से मुक्ति दिलाए। जब तक प्रदेश में ऐसे लोगों के नेटवर्क को तोड़ा नहीं जाता है, तब तक प्रदेश की जनता अपने को भयमुक्त नहीं महसूस करेगी। वैसे मनोहर लाल सरकार ने काफी हद तक प्रदेश को अपराध मुक्त करने का प्रयास किया है। थोड़े और प्रयास की जरूरत है।

Share On