गरीबी, बीमारी और कष्टों दूर करने के लिए स्नान के जल में डाल दें ये चीज, फिर देखें चमत्कार

जल को बहुत ही पवित्र माना जाता है। शुद्ध अमृत के समान माना जाता है। अमृत से भी उच्च स्थान जल का होता है। जल हमारे हिन्दू सनातन धर्म का एक प्रमुख देवता है। जिसे हम वरुण देव के नाम से जानते हैं। वहीं अगर हम लोग जल के कुछ उपाय करें तो हमें कई प्रकार के लाभ हो सकते हैं।

Created By : Mukesh on :25-03-2022 13:57:45 प्रतीकात्मक खबर सुनें

गरीबी, बीमारी और कष्टों दूर करने के लिए स्नान के जल में डाल दें ये चीज, फिर देखें चमत्कार
जल को बहुत ही पवित्र माना जाता है। शुद्ध अमृत के समान माना जाता है। अमृत से भी उच्च स्थान जल का होता है। जल हमारे हिन्दू सनातन धर्म का एक प्रमुख देवता है। जिसे हम वरुण देव के नाम से जानते हैं। वहीं अगर हम लोग जल के कुछ उपाय करें तो हमें कई प्रकार के लाभ हो सकते हैं और हमारी बीमारी, गरीबी आदि समाप्त हो सकती है। तो आइए जानते हैं कि, नहाने के पानी में ऐसी कौन सी चीज है, जिसे डालने से हमारी गरीबी मिट जाएगी, हमारी निर्धनता मिट जाएगी, हमारी बीमारी समाप्त हो जाएंगी। तथा किसी भी प्रकार के ग्रह दोष और बाधाएं है वो भी समाप्त हो जाएंगी।
तुलसी
तुलसी हिन्दू धर्म की पवित्र देवी हैं। तथा भगवान शालिग्राम की पत्नी है और हिन्दू धर्म में इन्हें माता का दर्जा प्राप्त है। इस नाते अगर पवित्र मन से धन की कामना करके तुलसी के पांच पत्ते नहाने के पानी में डाल करके स्नान किया जाए तो आकस्मिक धन की प्राप्ति होती है।
हींग
शास्त्रों की मानें तो नहाने के पानी में कोई भी व्यक्ति हींग डालकर स्नान करता है तो यह ग्रह दोष, भूत-प्रेत की बाधा को दूर करने के लिए इसे उत्तम औषधि माना गया है। यह शनि और राहु जैसे ग्रहों के कुप्रभाव से भी हमें बचाती है। तथा उनके प्रभाव को समाप्त करती है। जिसे शनि की साढ़े साती, ढैय्या और भूत-प्रेत बाधा सताती हैं ऐसे व्यक्ति पानी में हींग डालकर जरुर स्नान करें। वहीं इस उपाय को करने से व्यक्ति को आकस्मिक उन्नति भी होती है। तथा जीवन में प्रगति होनी शुरु हो जाती है।
लौंग
ऐसा माना जाता है कि जल में फूल वाली सात लौंग डालकर शनिवार या मंगलवार के दिन स्नान किया जाए तो भयंकर से भयंकर शनि पीड़ा से मुक्ति मिलती है और जो भी आपका कार्य है उसमें आपको तरक्की मिलने लगती है। जीवन में आ रही सभी बाधा समाप्त होती हैं। आपकी सारी परेशानी स्वत: ही दूर हो जाती हैं।
Disclaimer: इस स्टोरी में दी गई सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं। Desh Rojana Portal किसी भी अंधविश्वास और इन तथ्यों की किसी प्रकार से कोई पुष्टि नहीं करता है। इन तथ्यों पर अमल करने से पहले संबंधित ज्योतिषी, आचार्य तथा विशेषज्ञ से संपर्क करें।

Share On