सुप्रीम कोर्ट ने शाहीन बाग मामले पर सुनवाई करने से किया इनकार,  याचिकाकर्ता को दी ये सलाह

मार्क्सवादी ने शाहीन बाग में बुलडोजर का एक्शन रोकने के लिए उच्चतम न्यायालय में एक याचिका डाली थी। जिसपर सुप्रीम कोर्ट ने रविवार को विचार करने से मना कर दिया है।

Created By : Shiv Kumar on :09-05-2022 15:59:51 प्रतीकात्मक तस्वीर खबर सुनें

एजेंसी, नई दिल्ली

दक्षिणी दिल्ली के शाहीन बाग क्षेत्र में अतिक्रमण को हटाने के खिलाफ भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीआई) की याचिका पर उच्चतम न्यायालय ने विचार करने से मना कर दिया है। सुप्रीम कोर्ट याचिकाकर्ता को उच्च न्यायालय जाने के लिए कह दिया है। शीर्ष न्यायालय ने याचिकाकर्ता से कहा कि हम तभी सुनवाई करेंगे जब पीड़ित पक्ष कोर्ट में न्याय मांगने आएं। दिल्ली के शाहीन बाग में रविवार की सुबह 11 बजे से अतिक्रमण व अवैध निर्माण के खिलाफ दक्षिण दिल्ली नगर निगम का एक्शन जारी है। एसडीएमसी द्वारा बुलडोजर लगातार क्षेत्र से अतिक्रमण हटाने का कार्य कर रहा है।

ये भी पढ़ें

चार बच्चों के पिता ने मासूम से किया रेप, नाजुक स्थिति में पीड़िता रोहतक पीजीआई रेफर

आप विधायकों ने भी किया विरोध
एसडीएमसी के अतिक्रमण पर एक्शन के खिलाफ ओखला से 'आप' विधायक अमानतुल्लाह खान भी मौके पर पहुंचे हैं। जो कई बार कार्रवाई करते बुलडोजर को रोकते नजर आए। दूसरी तरफ कांग्रेस के कई स्थानीय नेता भी आम जनता के साथ सड़क पर उतरे। आम लोगों ने जाम लगाकर बुलडोजर कार्रवाई का विरोध किया।

ये भी पढ़ें

ट्रेन यात्रियों के लिए खुशखबरी, दिल्ली-लखनऊ के बीच मंगलवार से दौड़ेगी Double Decker Train, जानें पूरा विवरण

एमसीडी पर लगा ये आरोप
अतिक्रमण हटाने का विरोध कर रहे आम आदमी पार्टी विधायक अमानतुल्लाह खान ने आरोप लगाया कि एमसीडी माहौल बिगाड़ने के प्रयास में अभियान चला रही है। अमानतुल्लाह खान बताया कि क्षेत्र के लोगों ने उनके निवेदन पर पहले ही अतिक्रमण हटा लिया था। अमानतुल्लाह खान ने कहा कि वजू खाना व यहां की एक मस्जिद के बाहर शौचालय पहले पुलिस की मौजूदगी में हटा दिए गए थे। जब कोई अतिक्रमण नहीं है, तो वहां क्यों कार्रवाई की जा रही है? बस सियासत करने का प्रयास किया जा रहा है।

ये भी पढ़ें

Mother’s Day 2022: एनजीएफ डिग्री कॉलेज में धूमधाम से मनाया मातृ दिवस

जहांगीरपुरी से शुरू हुआ मामला
जहांगीरपुरी में राम नवमी के दिन हिंसा हुई और उसके बाद से दिल्ली में ही सियासत शुरू हो गई। इस हिंसा के बाद से ही एमसीडी ने वहां अतिक्रमण हटाने के लिए बुलडोजर से एक्शन किया था। जिसके बाद उच्चतम न्यायालय ने वहां बुलडोजर चलाने पर रोक लगा दी थी। इसके बाद ही एमसीडी ने समूचे शहर में अतिक्रमण व अवैध निर्माण के खिलाफ अभियान तेज कर दिया। दिल्ली के कई क्षेत्रों में सर्वे के बाद अतिक्रमण के खिलाफ एक्शन लिया जा रहा है। इसी क्रम में रविवार को शाहीन बाग में भी यह एक्शन लिया जा रहा है। जिसमें दिल्ली पुलिस के साथ-साथ सीआरपीएफ के जवान भी तैनात किए गए हैं।

Share On