आजम खान मामले में 137 दिन से नहीं आया ऑडर, सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट को लगाई फटकार

सुप्रीम कोर्ट ने आजम खान मामले में बड़ी टिप्पणी की है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि 137 दिन से ऑडर नहीं आया, जाकि न्यायिक प्रक्रिया से मजाक है। वहीं सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि इस केस में हाईकोर्ट के निर्णय का इंतजार है। जरूरी होने पर ऑडर भी देंगे।

Created By : Shiv Kumar on :06-05-2022 15:00:18 आजम खांन मामला खबर सुनें

एजेंसी, दिल्ली।
सपा नेता आजम खां के मामले में उच्चतम न्यायालय ने उच्च न्यायालय पर कड़ी टिप्पणी की है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि 137 दिन से ऑडर नहीं आया है। जोकि न्यायिक प्रक्रिया से मजाक है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि वह इस केस में हाई कोर्ट के निर्णय का इंतजार करना चाहते हैं। सुप्रीम कोर्ट का कहना है आवश्यक होने पर इस मामले को लेकर आदेश भी देंगे। अदालत 11 मई को इस मामले में सुनवाई करेगी। वैसे आजम खां की तरफ से उच्चतम न्यायालय में अंतरिम बेल के लिए याचिका दायर की गई थी।

ये भी पढ़ें

उपचुनाव: सीएम धामी के सामने कांग्रेस ने निर्मला गहतोड़ी को बनाया उम्मीदवार


वैसे सपा नेता आजम खां को 86 केस में अदालत से बेल मिल चुकी है। सिर्फ एक केस में आजम खान की याचिका पर सुनवाई लंबित है। हाईकोर्ट ने शुक्रवार को इस केस में सुनवाई करते हुए फैसला सुरक्षित कर लिया था। अदालत अगले हफ्ते तक अपना फैसला सुना सकती है। यदि आजम खान की बेल अर्जी मंजूर हो जाती है तो वो जेल से बाहर आ जाएंगे। क्योंकि, अन्य मामलों में अदालत ने उन्हें पहले ही बेल दे रखी है। मामले की सुनवाई न्यायमूर्ति राहुल चतुर्वेदी की पीठ कर रही थी।

ये भी पढ़ें

अवैध निर्माण पर बुलडोजर चलने से बौखला गई हैं केजरीवाल सरकार: आदेश गुप्ता

इस केस में नहीं मिली है बेल
आजम खान पर शत्रु संपत्ति को अवैध रूप से कब्जे में लेकर जौहर यूनिवर्सिटी में शामिल कर लेने का आरोप है। उच्च न्यायालय में इस केस में पिछले वर्ष दिसंबर में सुनवाई पूरी हो चुकी है व कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रख लिया। मामले में गत सुनवाई के दौरान प्रदेश सरकार ने आजम खां की ओर से बेल याचिका दाखिल होने के बाद उच्च न्यायालय में अर्जी देकर कुछ और तथ्य प्रस्तुत करने के लिए वक्त मांगा था। कोर्ट ने चार मई को सुनवाई की तारीख तय की थी पर ईद के अवकाश के कारण चीफ जस्टिस के आदेश के तहत दो मई के सभी केस की सुनवाई 4 मई को हुई, जबकि 4 मई के सभी केस की सुनवाई पांच मई यानी गुरुवार को हुई। प्रदेश सरकार की ओर से 29 अप्रैल को ही हलफनामा दाखिल किया जा चुका है।

Share On