महिलाओं के लिए ये वर्कआउट उन्हें मोटापे से दिलाएंगे छूटकारा

आजकल भागदोड भरी जिंदगी में कई महिलाएं अपने ऊपर ध्यान नही दे पाती हैं। जिसके वजह से उन्हें कई चीजों का ध्यान नही रहता है। कई बार तो वो अपनी लाइफ में बिजी होने के कारण वे अपने फिजिकस का भी ध्यान नही रख पाती हैं।

Created By : Pradeep on :05-03-2022 16:39:07 प्रतीकात्मक तस्वीर खबर सुनें

आजकल भागदोड भरी जिंदगी में कई महिलाएं अपने ऊपर ध्यान नही दे पाती हैं। जिसके वजह से उन्हें कई चीजों का ध्यान नही रहता है। कई बार तो वो अपनी लाइफ में बिजी होने के कारण वे अपने फिजिकस का भी ध्यान नही रख पाती हैं। जिस कारण उन्हें अपने शरीर के मोटापे का का सामना करना पड़ता है। अगर आप भी उन्ही में से एक हैं तो आईये आपको बताते हैं कि आप अपने मोटे शरीर को किस तरह मैनटेन करें।
सूर्य नमस्कार


प्रत्येक साइड (बाएं और दाएं) के लिए केवल 12 गिनती के साथ, इसे कुल 24 गिनती बनाते हुए, यह दुनिया की सबसे लोकप्रिय और प्रभावी विधि है। यह पूरे शरीर का उपयोग करता है चाहे वह पीछे हो या आगे झुकना, कोर मजबूत करना इत्यादि। हम फिटनेस और अच्छे स्वास्थ्य के अपने उद्देश्यों तक पहुंचने के लिए योग के साथ अपना प्रयास शुरू करने के लिए सूर्य नमस्कार तकनीक को नियोजित कर सकते हैं और इसका अभ्यास कर सकते हैं।

संतुलनासन- प्लैंक पोज

  • पेट के बल लेट जाएं।
  • हथेलियों को अपने कंधों के नीचे रखें और अपने ऊपरी शरीर, पेल्विक और घुटनों को ऊपर उठाएं।
  • फर्श को पंजों से पकड़ें और घुटनों को सीधा रखें।
  • सुनिश्चित करें कि घुटने, पेल्विक और रीढ़ एक सीध में हों।
  • कलाइयों को कंधों के ठीक नीचे रखा जाना चाहिए और बाहें सीधी रखी जानी चाहिए।
  • अंतिम आसन में थोड़ी देर रुकें।

श्वास पद्धति

  • शरीर को फर्श से ऊपर उठाते हुए श्वास लें।
  • यदि आसन को अधिक देर तक रोके रखते हैं तो सामान्य रूप से श्वास लें और छोड़ें।

नौकासन- नाव मुद्रा

  • पीठ के बल लेट जाएं।
  • ऊपरी शरीर को फर्श से 45° ऊपर लाएं।
  • शरीर के भार को अपने कूल्हों पर रखें और पैरों को फर्श से 45° ऊपर उठाएं।
  • पैर की उंगलियां आंखों के साथ संरेखित होनी चाहिए।
  • घुटनों को मोड़ने से रोकने की कोशिश करें।
  • बाजुओं को जमीन के समानांतर रखें और आगे की ओर इशारा करें।
  • पेट की मसल्‍स को टाइट लें।
  • पीठ को सीधा करें।

कपालभाति प्राणायाम


सामान्य रूप से श्वास लें और एक छोटी, लयबद्ध और जोरदार सांस के साथ सांस छोड़ने पर ध्यान दें। अपने पेट का उपयोग डायाफ्राम और फेफड़ों से हवा को संपीड़ित करके बलपूर्वक बाहर निकालने के लिए कर सकते हैं। जब आप अपने पेट को डीकंप्रेस करते हैं तो साँस लेना अपने आप हो जाना चाहिए।

Share On