पीएफआई की हिट लिस्ट में पांच आरएसएस नेताओं के नाम, गृह मंत्रालय देगा वाई श्रेणी सुरक्षा

एनआईए को इनपुट मिले हैं कि केरल में पांच आरएसएस नेता पीएफआई की हिट सूची में है। इस सूचना के बाद गृह मंत्रालय ने इन नेताओं को वाई श्रेणी की सुरक्षा प्रदान करने का निर्णय लिया है।

Created By : Kaushal Kumar on :01-10-2022 12:18:16 प्रतीकात्मक तस्वीर खबर सुनें

एजेंसी, नई दिल्ली
केंद्रीय खुफिया एजेंसियों को इनपुट प्राप्त हुआ है कि बैंन कट्टरपंथी संगठन पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) की हिट सूची में केरल के पांच आरएसएस नेता हैं। संभावित खतरे को देखते हुए गृह मंत्रालय ने शनिवार को इन नेताओं को वाई श्रेणी की सुरक्षा प्रदान करने का ऐलान किया है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, एनआईए को रेड के दौरान केरल पीएफआई सदस्य मोहम्मद बशीर के घर से एक लिस्ट मिली, जिसमें कथित तौर पर पीएफआई के रडार पर आरएसएस के पांच नेताओं के नाम थे।

ये भी पढ़ें

भारत में पाकिस्तान के खिलाफ बड़ी `डिजिटल स्ट्राइक`, शहबाज सरकार का ट्विटर अकाउंट भी किया गया बैन


जानकारी के अनुसार, राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) को जानकारी प्राप्त हुई है कि बैंन लगाने के बाद केरल के पांच आरएसएस नेता पीएफआई की हिट सूची में हैं। एनआईए ने केस की जानकारी गृह मंत्रालय को शेयर की, जिसके बाद सरकार ने ये निर्णय लिया।

ये भी पढ़ें

दिल्ली: जिंदगी की जंग हार गया हैवानियत का शिकार मासूम, 14 दिन बाद एलएनजेपी अस्पताल में मौत

एनआईए और इंटेलिजेंस ब्यूरो (आईबी) की रिपोर्ट के आधार पर गृह मंत्रालय ने केरल में आरएसएस के पांच नेताओं को वाई श्रेणी की सुरक्षा देने का निर्णय लिया है। आरएसएस नेताओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए अर्धसैनिक बलों के कमांडो तैनात किए जाएंगे।


आपको बता दें कि एनआईए को रेड के दौरान केरल पीएफआई सदस्य मोहम्मद बशीर के घर से एक सूची मिली, जिसमें कथित तौर पर पीएफआई के रडार पर आरएसएस के पांच नेताओं के नाम थे।जानकारी के अनुसार, आरएसएस नेताओं को सुरक्षा देने वाले कुल 11 कर्मी (पांच और व्यक्तिगत सुरक्षा के लिए छह) शिफ्ट में काम करेंगे। इन नेताओं को सुरक्षा देने का निर्णय खुफिया रिपोर्टों के आधार पर लिया गया है।

ये भी पढ़ें

कब होगा आपके घर लक्ष्मी जी का आगमन, जानें...


आपको बता दें कि केंद्र सरकार ने बीते बुधवार को पीएफआई और उसके सहयोगियों पर सुरक्षा व आतंकी संबंधों के खतरे का हवाला देते हुए पांच वर्ष के लिए बैंन लगा दिया है। गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम (यूएपीए) के तहत कुल नौ संगठनों को 'गैरकानूनी' घोषित किया गया है।

Share On