क्या पार्टी ज्वाइन करने के लिए शिवपाल कर रहे हैं भाजपा की नीतियों का समर्थन

बीते दिनों तक पानी पी पी कर भाजपा को खरी खोटी सुनाने वाले समाजवादी नेता और उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री शिवपाल यादव की सोच में बदलाव देखा जा रहा है। जो पार्टी उन्हें तनिक नहीं सुहाती रहीं, उसकी नीतियां अब भा रही है। ऐसे में सवाल उठना लाजिमी है।

Created By : Pradeep on :16-04-2022 11:47:19 शिवपाल यादव खबर सुनें

नई दिल्ली
बीते दिनों तक पानी पी पी कर भाजपा को खरी खोटी सुनाने वाले समाजवादी नेता और उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री शिवपाल यादव की सोच में बदलाव देखा जा रहा है। जो पार्टी उन्हें तनिक नहीं सुहाती रहीं, उसकी नीतियां अब भा रही है। ऐसे में सवाल उठना लाजिमी है। कहा जा रहा है कि भाजपा की समान नागरिक संहिता जैसे नीतियों को लेकर शिवपाल इसलिए बात कर रहे हैं, क्योंकि अब उन्हें अपनी राजनीति भगवा खेमे में आकर करनी है। सोशल मीडिया पर तो यह भी कहा जा रहा है कि अगले सप्ताह वो भाजपा खेमे में आ सकते हैं।

ये भी पढ़ें

नाग को मौत के घाट उतारने वाले को नागिन ने 7 बार डंसा, जानें फिर क्या हुआ

शिवपाल ने हाल ही में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की थी और उन्हें ट्विटर पर फॉलो करना शुरू किया था। अब समान नागरिक संहिता का समर्थन कर उन्होंने अटकलों का बाजार और भी गर्म कर दिया है। इससे उनके भाजपा में शामिल होने की अटकलें तेज हो गई थीं। असल में, बीते उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी को मिली हार और खुद को समावादी पार्टी में अधिक तवज्जो नहीं मिलने से शिवपाल बेहद परेशान है। समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव कई सालों से उन्हें साइड ही किए हुए हैं। सार्वजनिक जीवन में एक अलग रसूख रखने वाले शिवपाल को यह सब रास नहीं आ रहा है।

ये भी पढ़ें

युवती ने इंजन के आगे कूदकर की आत्महत्या, परिजनों की तलाश में जुटी पुलिस

असल में, शिवपाल ने अपनी पार्टी प्रगतिशील समाजवादी पार्टी-लोहिया (प्रसपा) द्वारा भीमराव आंबेडकर की जयंती पर 'राष्ट्रीयता व समाजवाद' विषय पर आयोजित एक कार्यशाला के दौरान समान नागरिक संहिता की खुलकर वकालत की। उन्होंने यह भी कहा कि हम लोगों को चाहे आंदोलन चलाना पड़े, कुछ भी करना पड़े, लोहिया जी और अंबेडकर जी ने जो भी सपने देखे थे, हम उनकी आवाज उठाकर अपने संगठन को मजबूत करते हुए आगे बढ़ेंगे। डॉक्टर भीमराव आंबेडकर ने समान नागरिक संहिता की आवाज संविधान सभा में उठाई थी। लोहिया जी ने भी संसद में आवाज उठाई थी तो हम लोग आज उनकी जयंती के शुभ अवसर पर समान नागरिक संहिता की आवाज बुलंद कर रहे हैं।

Share On