गर्भावस्था के दौरान  फॉलिक ऐसिड की टेबलेट्स क्यों दी जाती हैं।

क्‍योंकि हर माता-पिता की ये ही चाहत  होती है कि उनका बच्‍चा तन और मन दोनों से स्‍वस्‍थ हो मजबूत हो

Created By : Manuj on :03-11-2022 13:46:19 फॉलिक ऐसिड खबर सुनें
ये भी पढ़ें

मुग़ले  आजम के शहंशाह

नम्रता पुरोहित कांडपाल

गर्भावस्था के दौरान फॉलिक ऐसिड की टेबलेट्स क्यों दी जाती हैं।

क्या आपको पता है। गर्भावस्था के दौरान फॉलिक ऐसिड की टेबलेट्स क्यों दी जाती हैं,, क्‍या होता है ये फॉलिक ऐसिड और इसका होने वाले बच्‍चे से क्‍या संबंध है।तो चलिए आज हम आपको इसी विषय पर बताएंगे की जब कोई औरत मां बनने वाली होती है तो उसे डॉक्‍टर्स फॉलिक एसिड की दवाईयां क्‍यों देते है इससे मां और होने वाले बच्‍चे को क्‍या फायदा होता है।।

हमारे हिंदू धर्म में सोलह संस्‍कार बताए गए है और सभी संस्‍कारों का अपना एक महत्‍व होता है, और सभी सोलह संस्‍कारों को एक निश्चित समय पर ही किया जाता है।। इन्‍हीं सोलह संस्‍कारों में से एक होता है गर्भाधारण संस्‍कार,ऐसा माना जाता है कि पुराने समय में कोई महिला गर्भधारण करती थी तो तिथि,वार मुर्हूत देखकर ही करती थी और उसके बाद जब वो महिला गर्भावस्‍था के दौरान होती तो उसका खान-पान का भी विशेष ध्‍यान रखा जाता था कि होने वाला बच्‍चा स्‍वस्‍थ हो तंदुरस्‍त हो और साथ ही दिमाग से भी तेज़ हो।। और ऐसा ही होता भी था शास्‍त्रों में इसके प्रमाण भी मिलते है।।

क्‍योंकि हर माता-पिता की ये ही चाहत होती है कि उनका बच्‍चा तन और मन दोनों से स्‍वस्‍थ हो मजबूत हो।। तो अगर आप भी अपने बच्‍चे को र्स्‍माट और इंटेलीजेंट बनाना चाहते है तो हमारी ये खबर ध्‍यान से देखिए क्‍योंकि आज हम आपको एक ऐसी ही कमाल की चीज के बारे में बता रहे है जो आपके बच्‍चे को इस दुनिया की भीड़ में मजबूती से खड़े रहने के लिए जरूरी है।।

जब कोई महिला प्रेग्‍नेंट होती है तो डॉक्‍टर्स सबसे पहले उसे आयरन और फॉलिक एसिड की गोलियां देते है।। डॅाक्‍टर्स फोलिक एसिड की दवाइयां चार हफ्ते पहले से ही देना शुरू कर देते है और गर्भ के 12 वें हफ्ते तक ये दी जाती है।। दवा को देने का मुख्‍य कारण ये होता है कि आने वाले बच्‍चे में न्‍यूरल ट्यूब में किसी प्रकार का कोई डिफेक्‍ट ना हो बच्‍चे को कोई बीमारी ना हो।। बच्‍चे का वजन सही रहे,, आजकल देखा जाता है कि बच्‍चा टाइम से पहले ही हो जाता है तो इसके लिए भी फोलिक एसिड देना सही रहता है ताकि बच्‍चा समय से पहले जन्‍म ना लें।। ये फॉलिक एसिड की गोलियां ना सिर्फ मां के लिए लाभदायक होती है बल्कि होने वाले बच्‍चे को भी हेल्‍दी और इंटेलीजेंट बनाती है।।

अक्‍सर देखने में और सुनने में आता है कि बच्‍चा दिमाग सेन्‍यूरल ट्यूबहुआ है,सिर टेढ़ा या चपटा होता है,मस्तिष्‍क अविकसित होता है,,या रीढ़ से जुड़ी हुई कई बीमारियों से बच्‍चे जिंदगी भर जुझते रहते है।। ये सब इसलिए होता है क्‍योंकि गर्भवती होने के दौरान मां ने फोलिक एसिड की गोलियां नहीं ली हो।। तो इस कमाल की चीज यानि फोलिक एसिड से बच्‍चे का (IQ)इंटेलिजेंस कोशंट यानि बौद्धिक स्‍तर और (EQ) इमोश्‍नल कोशंट दोनों ही बूस्‍ट होते है साथ ही कई जानलेवा बीमारियों से आपका बच्‍चा हमेशा के लिए सुरक्षित हो जाता है।।

अब आपको न्‍यूरल ट्यब की गड़बड़ी के बारे में बताते है--

न्‍यूरल ट्यूब से ही बच्‍चे का ब्रेन और बैकबोन दोनों बनते है, कई बार देखा जाता है कि प्रेग्‍नेंसी के पहले के शुरू महीने में औरत को पता ही नहीं चलता है कि वो प्रेग्‍नेंट है,ऐसा तब देखा जाता है जब कोई महिला पहली बार मां बन रही हो।।

लेकिन गर्भ में भ्रूण का विकास शुरू हो गया होता है,, इसी महीने में भ्रूण में न्‍यूरल ट्यूब बनती है,यही ट्यूब बच्‍चे के हेल्‍दी नर्वस सिस्‍टम को बनाती है, इसी ट्यूब का ऊपरी भाग ब्रेन बनता है,,और नीचला हिस्‍सा रीढ़ की हड्डी बनती है।। न्‍यूरल ट्यूब यानि एनटीडी में गड़बड़ी से--- 1--बैकबोन विकसीत नहीं होता है।

2-लकवा या पैरालिसिस के कारण बच्‍चे को खड़े होने में परेशानी होती है।

3- बच्‍चा किसी नहीं चीज को सीखने में काबिल नहीं हो पाता है।

4- बच्‍चे में दिमाग यानि ब्रेन विकसीत नहीं हो पाता है।

5- कईं बार देखा गया है कि बच्‍चे के सिर के अंदर ब्रेन होता ही नहीं है।।

6-- और ऐसे बच्‍चे पैदा होने के कुछ दिनों बाद ही मर जाते है।।

7-- ऐसा भी देखा गया है कि माता-पिता में एनटीडी हो या उनके पहले किसी बच्‍चे में ऐसी कोई समस्‍या देखी गई हो तो, बाद में होने वाले बच्‍चे में भी इसका खतरा बना रहता है।।

8-स्‍फीना बिफिडा और एनेनसेफली जैसी बीमारी की चपेट में आना,दूसरी पीढ़ी के बच्‍चों के लिए भी किसी ख़तरे से कम नहीं है।।

आयरलैंड की अल्‍स्‍टर यूनिवर्सिटी के विशेषज्ञों ने प्रेग्‍नेंसी पीरियड के दौरान फोलिक एसिड खाने वाली और नहीं खाने वाली महिलाओं के बारे में अपनी जांच में पाया कि जिन महिलाओं ने प्रेग्‍नेंसी पीरियड के दौरान फोलिक एसिड खाया है उनके बच्‍चे साइकोलोजिकल ज्‍यादा डेवलप थे।। और जिन महिलाओं ने फोलिक एसिड नहीं खाया उनके बच्‍चे इमोश्‍नली कमजोर पैदा हुए थे।।

ये रिपोर्ट 2019 में मेडिकल जर्नल वेबसाइट बीएमसी मेडिसिन, में प्रकाशित हुई थी और ये रिपोर्ट ब्रिटिश साइकोलॉजिकल सोसायटी में पेश की गई थी।।

वैसे तो सभी के लिए फोलिक एसिड जरूरी होता है लेकिन- -

1-अगर पेरेंट्स में से कोई भी डायबिटी से पीडित हो।

2- जिन गर्भवती महिलाओं का बीएमआई 35 से ज्‍यादा हो।

3- परिवार में या पहला बच्‍चा एनटीडी की चपेट में आया हो।।

4- मिर्गी जैसी बीमारियों की दवा पहले से खा रहे हो।।

इन सभी के लिए फोलिक एसिड बहुत जरूरी है।।

फोलिक एसिड पाने के साधन--

1- हरी पत्‍तेदार सब्जियां- जैसे पालक,ब्रोकली

2- फलियों वाली सब्जियां- सेम,बींस

3- कड़े छिलके वाले सूखे मेवे- अखरोट,बादाम।

4- सूरजमुखी के बीज-मुंगफली और स्‍वीट कॉर्न।

5 -नींबू,संतरा,खट्टे फल।

6-आम,अंगुर,केला,पपीता और इनका जूस।

7-साबूत अनाज,तिल,दलिया,राजमा।

इसके अलावा सी फूड में अंडे में भी फोलिक एसिड पाया जाता है।।

हेल्‍दी ब्रेन सेल्‍स बनाने के साथ-साथ ही फोलिक एसिड ऑटिज्‍म से भी बच्‍चों को बचाता है।। कैंसर जैसी बीमारियों से भी बचाव करता है ये फोलिक एसिड साथ ही बच्‍चों के दिल-दिमाग और हाथ-पैर को भी मजबूत बनाता है फोलिक एसिड।।

WHO यानि विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन के अनुसार एक गर्भवती महिला को रोज 400 माइक्रोग्राम फोलिक एसिड की जरूरत होती है। लेकिन इसके साथ ही अगर डॉक्‍टर गर्भवती महिला में कोई कमी देखता है तो वो मात्रा निर्धारित कर सकता है।। लेकिन ज्‍यादा मात्रा में फोलिक एसिड खाना भी खतरे से कम नहीं है।। इसलिए फोलिक एसिड की गोलियां डॉक्‍टर की सलाह के बिना ना लें।।

कोई भी चीज जरूरत से ज्‍यादा लेने पर वो नुकसानदायक सा बित होती है।। इसलिए ध्‍यान रखें कई बार देखा गया है, इसका ज्‍यादा डोज लेने से नर्वस सिस्‍टम भी बिगड सकता है।। फोलिक एसिड लेने से पहले आपको इस बात का भी ध्‍यान रखना है कि आपको आयरन या फोलिक एसिड से कोई एलर्जी तो नहीं है।। पेट में अल्‍सर या किसी प्रकार का कोई ऑपरेशन तो नहीं हुआ है।। खून से जुड़ी हुई या कोलाइटिस की बीमारी तो नहीं है।। कोई थाइरॉयड या हड्डी से जुड़ी किसी बीमारी की दवा तो नहीं ले रहे है।।

अगर आपकी कोई मेडिकल हिस्‍ट्री है तो आप पहले अपने डॉक्‍टर को अच्‍छे से सब बताए फिर ही फोलिक एसिड की दवा का या इससे जुड़ी हुई चीजों का प्रयोग करें।। तो फिर आप भी इस अमृत के सेवन से अपने होने वाले बच्‍चे को शारीरिक,मानसिक स्‍तर पर मजबूत बना पाएंगी।।

Share On