नेपाल के लापता विमान का मलबा बरामद, ऐसे चला पूरा तलाशी अभियान

जोमसोम एयरपोर्ट के ट्रैफिक कंट्रोलर के अनुसार, घासा में एक तेज विस्फोट की खबर सामने आई थी। इसके बाद कोबन गांव के मुस्टांग में लापता विमान का मलबा मिल गया।

Created By : Shiv Kumar on :29-05-2022 17:05:27 प्रतीकात्मक तस्वीर खबर सुनें

एजेंसी, दिल्ली
नेपाल के पोखरा से जोमसोम के लिए रवाना यात्री विमान हादसे का शिकार हो गया है। इस यात्री विमान में क्रू मेंबर सहित कुल 22 लोग सवार थे। उनमें भी चार भारतीय भी शामिल थे। एयरपोर्ट अथॉरिटी के मुताबिक रविवार की सुबह 10.07 बजे से इस विमान से कोई संपर्क नहीं हो सका था। रविवार की शाम को ही करीब चार बजे इस विमान का मलबा बरामद हुआ। त्रिभुवन इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चीफ ने बताया कि घटनास्थल पर तफ्तीश की जा रही है। वहीं सेना के प्रवक्ता नारायण सिलवाल के अनुसार नेपाल की सेना जमीन व वायु मार्ग से घटनास्थल की तरफ रवाना हो गई है।

ये भी पढ़ें

सीएम जयराम ठाकुर ने कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष प्रतिभा सिंह को स्वयं जाकर दिया निमंत्रण

जोमसोम एयरपोर्ट के ट्रैफिक कंट्रोलर ने इससे पहले बताया था कि घासा में एक तेज विस्फोट की खबर सामने आई है। जिसकी पुष्टि के लिए धमाके वाले क्षेत्र में हेलिकॉप्टर भेजा गया है। ये भी जानकारी दी कि विस्फोट वाले स्थान पर इस इस विमान से अंतिम बार संपर्क हुआ था। दूसरी ओर, विमान के गायब होने के बाद उसकी खोज में खराब मौसम की वजह से काफी परेशानी आई। विमान का मलबा बरामद होने के बाद मामले में आगे की कार्रवाई शुरू कर दी गई है। जानकारी के अनुसार, चार भारतीय, 13 नेपाली, दो जर्मन व ड्राइवर टीम के तीन सदस्य सवार इस यात्री विमान में थे।

ये भी पढ़ें

Mann ki Baat: हिमाचल में बूथ स्तर पर सुनी गई प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मन की बात

इस तरह की गई लापता विमान की खोज
प्राप्त सूचना के अनुसार, खराब मौसम के दौरान भी नेपाली सेना के एक हेलिकॉप्टर ने गायब विमान के दुर्घटनास्थल को खोज लिया है। नेपाली मीडिया के अनुसार, नेपाल की सेना का एक हेलीकॉप्टर 10 सैनिकों व दो कर्मचारियों सहित नरशंग मठ के निकट एक नदी के किनारे पर उतरा, यही दुर्घटना का संभावित स्थान था। त्रिभुवन अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के महाप्रबंधक प्रेम नाथ ठाकुर ने बताया कि नेपाल टेलीकॉम ने ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम (जीपीएस) नेटवर्क के जरिए से विमान के कैप्टन प्रभाकर घिमिरे के सेलफोन को ट्रैक किया। जिससे गायब विमान का सुराग हाथ लग सका। ठाकुर ने कहा कहा कि गायब विमान के कैप्टन घिमिरे का सेल फोन बज रहा था। फोन को ट्रैक करने के बाद नेपाली सेना का हेलीकॉप्टर हादसे वाले स्थान पर पहुंच गया। एयरलाइन वेबसाइट के मुताबिक, तारा एयर नेपाली पहाड़ों में सबसे नई व सबसे बड़ी एयरलाइन सेवा देने वाली कंपनी है। इसने 2009 में ग्रामीण नेपाल को विकसित करने में सहायता करने के मिशन के साथ कारोबार शुरू किया था।

ये भी पढ़ें

सुबह 10 बजे गायब हुआ था नेपाल का विमान, कोबन गांव के मुस्टांग में मिला मलबा

तारा एयर के अनुसार, कुमार त्रिपाठी, धनुष त्रिपाठी, रितिका त्रिपाठी व वैभवी बांदेकर चार भारतीय इस विमान में सवार है। इनके अतिरिक्त इस विमान में यात्री पुरुषोत्तम गोले, इंद्र बहादुर गोले, बसंत लामा, राजन कुमार गोले, रवीना श्रेष्ठ, गणेश नारायण श्रेष्ठ, रोजिना श्रेष्ठ, प्रकाश सुनुवर, रश्मि श्रेष्ठ, राममाया तमांग, मकर बहादुर तमांग, सुकुमाया तमांग, अशोक, तुलसी देवी तमांग, माइक ग्रीट, उवे विल्नर शामिल थे। तारा एयर के प्रवक्ता सुदर्शन बरतौला ने बताया था कि गायब इस विमान में पायलट कैप्टन प्रभाकर प्रसाद घिमिरे, एयर होस्टेस कास्मी थापा और को-पाइलट इतासा पोखरेल हैं।

Share On