टेरर फंडिंग केस में यासीन मलिक को पटियाला हाउस कोर्ट में दोषी करार दिया

पटियाला हाउस कोर्ट ने टेरर फंडिंग केस में अलगाववादी यासीन मलिक को दोषी करार दिया है। अब यासीन मलिक की सजा पर 25 मई को बहस होगी। गुरुवार को सुनवाई के दौरान कोर्ट ने एनआईए को कहा कि वह यासीन मलिक की आर्थिक स्थिति का पता करे।

Created By : Pradeep on :19-05-2022 13:55:51 टेरर फंडिंग केस में यासीन मलिक को पटियाला हाउस कोर्ट में दोषी करार दिया खबर सुनें

पटियाला हाउस कोर्ट ने टेरर फंडिंग केस में अलगाववादी यासीन मलिक को दोषी करार दिया है। अब यासीन मलिक की सजा पर 25 मई को बहस होगी। गुरुवार को सुनवाई के दौरान कोर्ट ने एनआईए को कहा कि वह यासीन मलिक की आर्थिक स्थिति का पता करे। इतना ही नहीं, कोर्ट ने यासीन मलिक को भी अपनी संपत्ति के बारे में एफिडेविट देने को कहा है।

ये भी पढ़ें

फिल्म शूटिंग का हब बन गया उत्तराखंड: सतपाल महाराज

दरअसल, अलगाववादी नेता यासीन मलिक ने बीते दिनों कश्मीर में आतंकवाद और अलगाववादी गतिविधियों से जुड़े मामले में अदालत में खुद पर लगे सभी आरोपों को स्वीकार किया था, जिनमें कठोर गैरकानूनी गतिविधियां निवारण अधिनियम (यूएपीए) के तहत लगे आरोप भी शामिल हैं। दिल्ली की विशेष एनआईए अदालत के सामने यासीन मलिक ने यूएपीए कानून के तहत लगे आरोपों को कबूल किया था, इसके बाद कोर्ट ने कहा था कि अब 19 मई को अगली सुनवाई होगी।

ये भी पढ़ें

पीएम गति शक्ति योजना में तेजी लाने के निर्देश, मुख्य सचिव  ने की संचालित कार्यक्रमों की समीक्षा

दरअसल, यासीन मलिक के खिलाफ यूएपीए कानून के तहत 2017 में आतंकवादी कृत्यों में शामिल होने, आतंक के लिए पैसा एकत्र करने, आतंकवादी संगठन का सदस्य होने जैसे गम्भीर आरोप थे, जिसे उसने चुनौती नहीं देने की बात कही और इन आरोपों को स्वीकार कर लिया। यह मामला कश्मीर घाटी में आतंकवाद से जुड़े मामले से संबंधित हैं।

ये भी पढ़ें

जेल से बाहर आ सकते हैं आजम खां, सुप्रीम कोर्ट ने इतने मामलों में दी अंतरिम जमानत


पिछली सुनवाई के दौरान मलिक ने अदालत को बताया था कि वह यूएपीए की धारा 16 (आतंकवादी गतिविधि), 17 (आतंकवादी गतिवधि के लिए धन जुटाने), 18 (आतंकवादी कृत्य की साजिश रचने), व 20 (आतंकवादी समूह या संगठन का सदस्य होने ) और भारतीय दंड संहिता की धारा 120-बी (आपराधिक साजिश) व 124-ए (देशद्रोह) के तहत खुद पर लगे आरोपों को चुनौती नहीं देना चाहता।

ये भी पढ़ें

केदारनाथ धाम में कुत्ते के साथ घूमने, नंदी को स्पर्श करने का मामला, थाने में दी तहरीर

यहां बताना जरूरी है कि साल 2017 में कश्मीर घाटी में आतंकी घटनाओ में बहुत इजाफा देखने को मिला था। घाटी के माहौल को बिगाड़ने के लिए लगातार आतंकी साजिशें रची जा रही थीं और वारदातों को अंजाम दिया जा रहा था। ठीक, उसी मामले में दिल्ली की विशेष अदालत में अलगाववादी नेता के खिलाफ सुनवाई हुई, जिसमें यासीन ने अपना गुनाह कबूल कर लिया।

ये भी पढ़ें

प्रधानमंत्री आवास योजना पक्के घर का सपना करती है साकार, ऐसे लाभ उठाएं लोग

बता दें कि कोर्ट ने पहले ही इस मामले में फारूक अहमद डार उर्फ़ बिट्टा कराटे, शब्बीर शाह, मशरत आलम समेत 15 आरोपियों पर आरोप निर्धारित कर दिए हैं। इस मामले में लश्कर ए तोईबा सरग़ना हाफ़िज़ सईद और हिज़बुल सरग़ना सैयद सलाहुद्दीन भी आरोपी हैं, जिन्हें अदालत भगौड़ा घोषित कर चुकी है।

Share On